मुन्ना का खेल, मंत्रालय के आदेशों को खूंटी पर टांग बड़े पैमाने कर डालीं अवैध नियुक्तियों - TIMESNEWS

Breaking

TIMESNEWS

सच्चाई की कलम से

Thursday, May 21, 2020

मुन्ना का खेल, मंत्रालय के आदेशों को खूंटी पर टांग बड़े पैमाने कर डालीं अवैध नियुक्तियों

-खुले में शौच निगरानी सहित अन्य पदों पर की गई भर्तियों की हुई शिकायत-
-निष्पक्ष जाँच हुई तो कार्रवाई की जद में आएंगे मुन्नालाल-
शिवपुरी। भ्रष्टाचार का अड्डा बन चुकी शिवपुरी नगर पालिका कि एक बार फिर लोकायुक्त ईओडब्ल्यू सहित अन्य जगहों पर शिकायत किए जाने का मामला सामने आया है। यह शिकायत वरिष्ठ अभिभाषक विजय तिवारी द्वारा की गई है। शिवपुरी में नगर पालिका अध्यक्ष रहे मुन्ना लाल कुशवाह द्वारा पद पर रहते हुए सैकड़ों कर्मचारियों की भर्ती वैधानिक प्रक्रिया न अपनाते हुए, गलत तरीके से इन्हें अस्थाई रूप से भर्ती किए जाने सहित अन्य कई मामलों को लेकर यह शिकायत की गई है,जो भर्ती की गईं है उनमें मंत्रालय से जारी हुए आदेशों को भी ताक पर रखा गया है। की गई शिकायत में चोंकाने बाला पहलू यह है कि मुन्नालाल कुशवाह और उनकी परिषद ने खुले में शौच, स्ट्रीट लाइटें सहित अन्य स्थानों पर कर्मचारी भर्ती के इस काले खेल को महज 7 दिनांकों में बड़े पैमाने पर अस्थाई कर्मचारियों की नियुक्ति कर खेला है।
अब यह मामले आए सामने:-
मुन्नालाल कशवाह द्वारा तत्कालीन अध्यक्षीय परिषद के सहयोग से जो काले कारनामे किए गए है उनमें संकल्प कमांक 23, 24,53,54, दिनांकित 09.01.18 द्वारा पांच कर्मचारी। संकल्प कमांक 310, 311 दिनांकित 12.03.2018 द्वारा 6 कर्मचारीगण की समयवृद्धि एवं टैक्टर टेंकर ड्रायवरों की नियुक्ति। सकल्प कमांक 487, 499, 500, 501, 502, 504, 505 दिनांकित 17.04.18 द्वारा 25 कर्मचारीगण की अस्थायी नियुक्ति का आदेश जारी करना। काले खेल को आगे बढ़ते हुए संकल्प कमांक 680 दिनांक 19.06.18 द्वारा सिटी प्लाजा फिजीकल कॉलेज के सामने की सफाई हेत पांच सफाई कर्मचारीगण की नियुक्ति की गई थी जबकि उक्त सिटी प्लाजा कई वर्षों से बंद पड़ा होकर इस पर अवैध रूप से कब्जा है।संकल्प कमांक 692 दिनांक 19.06.18 द्वारा टैक्टर टेंकर पर ड्रायवरों की अवैध नियुक्ति की गई है।
बताया जाता है कि जिन कर्मचारियों की भर्ती की गई थी उन्होंने नपा में कार्य न करते हुए नपा पार्षद व स्थानीय नेताओं एवं नगरपालिका अधिकारियों के घर पर आमद दर्ज कराते हुए नपा की गुल्लख को लाखों रुपए प्रतिमाह की चपत लगाई है। 
शौच में भी होचपोच:-
मुन्नालाल कुशवाह के कार्यकाल पर नजर डाली जाए तो वह अपने कारनामों को लेकर पूरे समय चर्चा में रहे है।अब जो मामला सामने आया है उसमें खुले में शौच को रोकने को लेकर की गई कर्मचारी भर्ती का है। संकल्प क्रमांक 835,836,837,838. 839, दिनांकित 28.07.18 द्वारा 17 कर्मचारी, संकल्प कमांक 841 द्वारा खुले में शौच रोकने हेतु बार्ड क्रमांक 33 में तीन कर्मचारियों की नियुक्ति, वार्ड क्र. 33 मे सामुदायिक भवन पर चौकीदार, संकल्प कमांक 842 द्वारा नियुक्ति। संकल्प कमांक 566 दिनांकित 10.06.18 द्वारा स्ट्रीट लाइट व्यवस्था हेतु तीन कर्मचारियों की नियुक्ति। नपा में यह सभी भर्तियां भले ही कि गईं हो लेकिन आज तक उक्त कर्मचारी किसी भी स्थान पर कार्य करते नजर नही आए। ठीक इसी प्रकार संकल्प कमांक 561, 562 एवं 592 दिनांकित 10.05.18 द्वारा 5 कर्मचारीगण की अवैध नियुक्ति के संबंध में संकल्प पारित किये गये थे।
मंत्रालय के आदेश खूंटी पर टांगकर कर डाला भर्ती घोटाला:-
मुन्नालाल कुशवाह ने अपनी परिषद के साथ मिलकर जो खेल खेला है उसमें मंत्रालय के आदेशों को भी दरकिनार किया गया है। मध्यप्रदेश शासन नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग मंत्रालय भोपाल द्वारा पत्र क्रमांक /एफ/4-51/2012 दिनांकित 28.02.14 द्वारा पारित निर्देश के परिपेक्ष्य में यह स्पष्ट निर्देश था कि उक्त अस्थायी कर्मचारियों की नियुक्ति पृथक विज्ञापन प्रकाशित कराकर अभयर्थियों की कार्यकुशलता एवं निकाय की आवश्यकता के आधार पर की जाएगी। जबकि शिवपुरी में ऐसा नही हुआ और अध्यक्ष व उनकी परिषद द्वारा मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देशों का पालन न करते हुए अपने स्वार्थ की पूर्ति हेतु स्पष्ट रूप से उल्लंघन किया गया है।ठीक इसी प्रकार पूर्व अध्यक्ष व उनकी परिषद के द्बारा पांच वर्षों में जितनी भी अवैध नियुक्तियां की गईं है वह सभी जाँच के घेरे में हैं। पूर्व अध्यक्ष द्वारा की गई सभी नियुक्तियों की अगर निष्पक्ष जाँच की नए तो यह भर्ती घोटाला उजागर होता दिखाई दे तो आश्चर्य न होगा।
ग्वालियर की तर्ज पर चलकर सुधारी जा सकती है आर्थिक दशा:-
कोरोना काल मे नगर पलिका की आर्थिक स्थिति बिगड़ी दिखाई दे रही है। ऐसी स्थिति में बिना कार्य के सैकड़ों कर्मचारियों को वेतन देने से नपा को होने वाली हानि को रोका जा सकता है। उदहारण के तौर पर देखा जाए तो आयुक्त नगर निगम ग्वालियर द्वारा दिनांक 14/5/2020 को पारित संकल्प क्रमाक 35 अनुसार नगर निगम ग्वालियर में कार्यरत 38 कर्मचारी व अधिकारियों को उनके मूल विभाग में वापस भेजने के लिए सकल्प पारित कर डेढ करोड रूपये प्रतिवर्ष की बचत की गई है। नगर पालिका शिवपुरी में प्रशासक होने के नाते पूर्व अध्यक्ष मुन्नालाल कुशवाह द्वारा की गई समस्त अवैध नियक्तियां निरस्त कर परिषद का काविड-19 संक्रमण काल में आर्थिक स्थिति को सुधारा जा सकता है।