शिवपुरी जिलेभर की आज की विशेष खबरें जो आपके लिये है खास दिनांक 22-मई-2020 - TIMESNEWS

Breaking

TIMESNEWS

सच्चाई की कलम से

Friday, May 22, 2020

शिवपुरी जिलेभर की आज की विशेष खबरें जो आपके लिये है खास दिनांक 22-मई-2020

----------------------/1/----------------------
पशुधन बीमे से नुकसान शून्य मुनाफा 100 फीसदी

शिवपुरी। कृषक अब खेती पर ही निर्भर नहीं हैं, वे पशुपालन के माध्यम से भी अपनी आमदनी में अतिरिक्त वृद्धि कर सकते हैं। राज्य शासन की पशुधन बीमा योजना से दुग्ध उत्पादन, मुर्गी पालन, भेंड-बकरी जैसे अन्य दुधारू पशुओं के साथ अन्य पशुपालन अब आसान हो गया है। पशुधन बीमा योजना से पशुपालकों को अब नुकसान नहीं के बराबर और मुनाफा पूरा मिलता है।
पशुधन बीमा सभी श्रेणी के पशुओं के लिए:-
मध्यप्रदेश राज्य पशुधन एवं कुक्कुट विकास निगम के प्रबंध संचालक डॉ. एच.बी.एस. भदौरिया ने बताया कि पशुधन बीमा योजना प्रदेश के सभी जिलों में लागू है। इसमें दुधारू पशुओं के साथ ही सभी श्रेणी के पशुधन का भी बीमा कराया जा सकता है। योजना में एक हितग्राही के अधिकतम 5 पशुओं का बीमा किया जाता है। भेड, बकरी, सूकर आदि 10 पशुओं की संख्या को एक पशु इकाई माना गया हैं। इससे आशय है कि भेड, बकरी एवं शूकर के पालक एक बार में अपने 50 पालतु पशुओं का बीमा करा सकेंगे।
बीमा प्रीमियम पर अनुदान एपीएल श्रेणी के लिए 50 प्रतिशत तथा बीपीएल, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति श्रेणी के पशुपालकों के लिये 70 प्रतिशत एवं शेष राशि हितग्राही देय करेगा। बीमा प्रीमियम की अधिकतम दर एक वर्ष के लिये 3 प्रतिशत तथा तीन वर्ष के लिये 7.50 प्रतिशत देय होगी। प्रदेश में वर्तमान दरें 2.45 प्रतिशत तथा 5.95 प्रतिशत लागू है। पशुपालक अपने पशुओं का बीमा एक वर्ष तथा तीन वर्ष तक के लिये करा सकेंगे।
24 घंटे के भीतर देनी होगी सूचना:-
बीमित पशु-पालकों को बीमित पशु की मृत्यु की सूचना 24 घंटे के भीतर बीमा कंपनी को देना होगी। पशुपालन विभाग के चिकित्सक शव का परीक्षण करेंगे एवं उसकी रिपोर्ट में मृत्यु के कारणों का उल्लेख करेंगे। बीमा कंपनी को अधिकारी दावे संबंधी प्रपत्र एक माह के अंदर प्रस्तुत करेंगे। कंपनी 15 दिवस के अंदर दावे का निराकरण करेगी।

----------------------/2/----------------------
शहरी बस्तियों में कोविड-19 के नियंत्रण के लिये दिशा-निर्देश जारी

शिवपुरी। शहरी नई बस्तियों में कोविड-19 की रोकथाम तथा नियंत्रण के लिये आयुक्त स्वास्थ्य सेवाएँ, फैज अहमद किदवई ने प्रदेश के सभी कलेक्टर, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी तथा सिविल सर्जन सह-मुख्य अस्पताल अधीक्षकों को दिशा-निर्देश जारी किये हैं।
जारी निर्देशों के अनुसार स्थानीय निकायों को आवश्यक नियोजन सुनिश्चित करने के निर्देश दिये हैं। नई बस्तियों के भौगोलिक विस्तार एवं जनसंख्या के घनत्व को दृष्टिगत रखते हुए उपयुक्त एवं वरिष्ठ इन्सिडेन्ट कमांडर को चिन्हांकित कर कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिये आवश्यक नियोजन सामग्री, वित्तीय प्रबंधन के लिये व्यवस्थायें सुनिश्चित की जाएंगी। इन्सिडेन्ट कमांडर द्वारा म्यूनीसिपल कमिश्नर को रिपोर्ट दी जाएगी। इन्सिडेंट कमांडर द्वारा स्वास्थ्य, महिला एवं बाल विकास, आवास एवं नगरीय विकास, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी आदि विभागों के अधिकारियों, स्वच्छ भारत मिशन के अधिकारी, कर्मचारियों जन प्रतिनिधियों तथा क्षेत्र में पूर्व से कार्यरत गैर शासकीय संस्थानों, स्थानीय नेताओं आदि से आवश्यक समन्वय स्थापित किया जाएगा।
कोविड-19 के कंटेनमेंट के लिये शहरी बस्तियों तथा नगरीय रहवासी बसाहटों में कार्यवाही सुनिश्चित करने के लिये शहरी डिस्पेन्सरी, शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में पदस्थ स्वास्थ्य कर्मी, ए.एन.एम.शहरी आशा, शहरी आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, म्यूनीसिपल स्वास्थ्य कर्मी, सफाई कर्मी सामुदायिक स्वास्थ्य वॉलेन्टियर तथा अन्य स्वयंसेवक ( NSS/NYK/NCC/NGO आदि) दलों का सहयोग प्राप्त करने के निर्देश दिये हैं। आवश्यकता अनुसार अन्य प्रशिक्षित मानव संसाधन की तर्कसंगत पदस्थी किये जाने तथा समस्त मानव संसाधन का कोविड नियंत्रण के संबंध में आवश्यक उन्मुखीकरण मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा सुनिश्चित करने को कहा गया है। मैदानी दलों को कोविड-19 के संदिग्धों की संक्रीय पहचान, नामजद लिस्टिंग, कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग के संबंध में ट्रेनिंग एवं आवश्यक प्रश्नावली प्रपत्र दिया जाएगा। दलों को नागरिकों के तापमान की जाँच के लिये नॉन टच थर्मामीटर तथा ऑक्सीजन सेचुरेशन के परीक्षण के लिये दिया जाएगा। 50 वर्ष से अधिक उम्र के उच्च जोखिम व्यक्ति तथा अन्य दीर्घकालीन बीमारियों से ग्रस्त रोगियों की पहचान सुनिश्चित करने के निर्देश हैं।
स्थानीय जन-प्रतिनिधि, धर्म गुरू, गणमान्य नागरिक आदि का सहयोग कोविड-19 के सामुदायिक जागरूकता के लिये लिया जाएगा। रिस्क कम्युनिकेशन मनोसामाजिक मुद्दे एवं कोविड-19 से जुड़े कलंक, भ्रांतियों को दूर करने के लिये स्थानीय भाषा में सार्वजनिक स्थलों जैसे शौचालय, सामुदायिक भवन, जल संग्रहण स्थल आदि पर प्रसार सामग्री का प्रदर्शन किया जाएगा। साथ ही लोकल केवल टी.वी. चैनल्स का उपयोग तथा सोशल मीडिया के द्वारा उपयुक्त मेसेजिंग सुनिश्चित किया जाएगा। कोविड-19 के आम लक्षण तथा उच्च जोखिम संवर्ग विशेषकर वृद्ध जन, मधुमेह, उच्च रक्तचाप, हृदय रोग, फेफड़े-गुर्दे के रोगी को लक्षित कर व्यवस्था सुनिश्चित करने को कहा गया है। कंटेनमेंट क्षेत्र के रहवासियों के आगमन एवं निर्गमन को कड़ाई से नियंत्रित किए जाने और लोगों को घर के अंदर रखने के लिये दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 में प्रदत्त शक्तियों का उपयोग किया जाने को कहा गया है। स्थानीय प्रशासन द्वारा आवश्यक सेवायें जैसे भोजन, दूध, किराना, औषधियों एवं अन्य आवश्यक सेवाओं को जारी रखने के लिये आवश्यक कदम उठाये जाने तथा टीकाकरण, मातृ-शिशु स्वास्थ्य, टी.बी. नियंत्रण, डायलिसिस तथा एन.सी.डी. जैसे आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं को जारी रखा जाएगा। यथासंभव राहत केन्द्रों की जीओ टैगिंग सुनिश्चित किये जाने एवं मोबाईल एप्लीकेशन के द्वारा आवश्यक सूचना जन समुदाय तक पहुँचाने को कहा गया है।
जनसंख्या के घनत्व को दृष्टिगत रखते हुए प्रत्येक स्वास्थ्यकर्मी को निश्चित संख्या में हाउसहोल्ड विजिट करने और बड़े क्षेत्रों के लिये आवश्यकतानुसार अधिक संख्या में अतिरिक्त वर्क फोर्स को तैनात करने तथा मैदानी सर्वेक्षण दलों को उपयुक्त PPE किट उपलब्ध कराने के निर्देश हैं। साथ ही शासकीय संस्थाओं के अतिरिक्त इन क्षेत्रों में कार्यरत निजी चिकित्सकों का भी सहयोग लेने के निर्देश दिये गये हैं।

----------------------/3/----------------------
प्रवासी श्रमिकों के लिए सभी व्यवस्थाएँ कर रहा है जिला प्रशासन

शिवपुरी। लॉकडाउन के चलते प्रवासी श्रमिकों का पलायन जारी है। प्रवासी श्रमिक अपने अपने घरों की ओर रवाना हो रहे हैं ऐसे में उन्हें रास्ते में खाने-पीने और यातायात की समस्याएं भी हो रही हैं लेकिन मध्य प्रदेश सरकार द्वारा प्रवासी श्रमिकों को उनके घरों तक पहुंचाने का जिम्मा लिया है। श्रमिकों को बसों से भेजा जा रहा है। उनके ठहरने, खाने-पीने की व्यवस्था की जा रही है और अभी तक इस क्रम में लाखों श्रमिक अपने घर पहुंच गए हैं। 
शिवपुरी जिला प्रशासन द्वारा श्रमिकों के लिए की जा रही व्यवस्था की सराहना की जा रही है। आज राजस्थान के बीकानेर से आए 92 प्रवासी श्रमिकों के लिए पोहरी में खाने-पीने की व्यवस्था की गयी। उन्हें खाने में खीर-पूड़ी दी गई। जैसे ही सभी की थाली में खाना आया तो वे तारीफ करने से नहीं चुके और कहने लगे कि ऐसी व्यवस्था तो कहीं नहीं देखी। सभी श्रमिकों और उनके परिवार के सदस्यों की खुशी देखने लायक थी। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के इस दौर में हमें घर पहुंचने की चिंता थी। लेकिन जिला प्रशासन ने जो व्यवस्था की है उससे अब राहत मिली है।

----------------------/4/----------------------
राजमाता सिंधिया ट्रस्ट ने अब पुलिस महकमे को उपलब्ध कराईं पीपीई किट
-यशोधरा राजे सिंधिया के निर्देशन में ट्रस्ट द्बारा किए जा रहे हैं सराहनीय कार्य-

शिवपुरी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राह दिखाई, आत्मनिर्भर भारत की दिशा में लोकल को वोकल करते हुए शिवपुरी जिले के जैकेट निर्माता मंदी के दौर में “आपदा को अवसर” बनाते हुए बन गए अब पीपीई निर्माता, यह बात आज शिवपुरी विधायक और पूर्व कैबिनेट मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने कही है।राजमाता विजयाराजे सिंधिया ट्रस्ट द्वारा पिछले लंबे समय से पीड़ित मानवता की जो सेवक की जा रही है उसकी जितनी सराहना कि जाए कम है। ट्रस्ट ने कोरोना काल महामारी से लड़ने में अहम रोल अदा करने वाले चिकित्सक,पुलिस सहित अन्य लोगों की भी सुध लेते हुए इन्हें सुरक्षा की दृष्टि से पीपीई किट का वितरण किया जा रहा है। राजमाता विजयाराजे सिंधिया ट्रस्ट द्बारा इन पीपीई किट्स को खरीदकर इनका निःशुल्क वितरण किया जा रहा है। ट्रस्ट की अध्यक्ष शिवपुरी विधायक एवं पूर्व कैबिनेट मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया के निर्देशन में आज ट्रस्ट एवं भाजपा कार्यकर्ताओं ने पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचकर एसपी राजेश सिंह चंदेल को कोरोना महामारी से लड़ने के लिए 3 सैकड़ा से अधिक पीपीई किटें उपलब्ध कराई हैं।
इस दौरान भाजपा जिला अध्यक्ष राजू बाथम नगर मंडल अध्यक्ष विपुल जैमिनी डॉ रश्मि गुप्ता सहित अन्य ट्रस्ट एवं भाजपा कार्यकर्ता मौजूद रहे। गौरतलब है कि कोरोना महामारी में राजमाता सिंधिया ट्रस्ट द्वारा अब से पूर्व स्वास्थ्य महकमे को 5 सैकड़ा एवं प्रशासनिक अमले को 1000 पीपीई किट उपलब्ध कराते हुए यह बात कही गई है कि यदि आगे भी शासकीय मशीनरी,कोरोना योद्धाओं को जितनी भी पीपीई किटों की आवश्यकता होगी वह सभी राजमाता सिंधिया ट्रस्ट उपलब्ध कराएगा। जिन किटों का  वितरण आज पुलिस महकमे को किया गया है वे सभी किट पुलिस अधीक्षक राजेश सिंह चंदेल के कहने पर पुलिस की सुविधा अनुसार बनवाई जाकर उपलब्ध कराई गई है। यहां बतादें कि राजमाता सिंधिया ट्रस्ट द्वारा जितनी भी किटों का वितरण किया जा रहा है वे सभी पीपीई किटें शिवपुरी जिले के बदरवास तहसील में बनाई जा रही हैं। इन किटों की बड़े स्तर पर मांग आती दिखाई दे रही है। किट बनाने वाले समूह संचालक धर्मेंद्र अग्रवाल ने बताया कि उनके पास शिवपुरी सहित अन्य जिलों से भी आर्डर आ रहे हैं। किट के निर्माण में लगभग आधा सैकड़ा कारीगर और कई मजदूर लगे हुए हैं जिनके द्वारा प्रतिदिन 300 से अधिक किट बनाई जा रही हैं।

----------------------/5/----------------------
सी.एम. हेल्पलाइन बनी जरूरतमंदों का बड़ा आसरा

शिवपुरी। प्रदेश में कोरोना के कारण लागू लॉकडाउन में सी.एम. हेल्पलाइन नम्बर 181 आम नागरिकों और सभी जरूरतमंदों के लिये सबसे बड़ा आसरा बन गया है। इस नम्बर पर अब तक 7 लाख 37 हजार 694 लोगों के फोन करने पर भोजन, राशन, दवाओं, परिवहन तथा अन्य प्रकार की सहायता उपलब्ध कराई गई है। सी.एम. हेल्पलाइन किसानों के लिये भी मददगार साबित हो रही है। इस पर अब तक फसल कटाई, फसल परिवहन आदि की 1228 समस्याओं का तुरंत निराकरण सुनिश्चित किया गया है।
सी.एम. हेल्पलाइन नम्बर 181 पर अब तक भोजन संबंधी 5 लाख 96 हजार 630, परिवहन संबंधी 44 हजार 099, दवाइयों संबंधी 36 हजार 371, आवश्यक वस्तुएं जैसे दूध, सब्जी आदि संबंधी 18 हजार 311 तथा अन्य प्रकार की 42 हजार 333 समस्याओं की सूचना मिलते ही त्वरित कार्रवाई कर सहायता मुहैया कराई गई।

----------------------/6/----------------------
श्रम सुधारों में श्रमिक हितों के संरक्षण पर विशेष ध्यान

शिवपुरी। मध्यप्रदेश सरकार ने श्रम सुधारों में श्रमिक हितों के संरक्षण पर विशेष जोर दिया है। ओवर टाइम के लिये श्रमिक की सहमति कानूनी रूप से जरूरी होगी। सहमति के आधार पर ओवर टाइम करवाने पर दरें दो गुनी रहेंगी। बाल श्रमिकों का नियोजन यथावत प्रतिबंधित रहेगा।
ओवर टाइम के लिये श्रमिक की सहमति कानूनी रूप से आवश्यक होगी। श्रमिकों के हित में ओवर टाइम के लिये दोगुनी दरें यथावत देना बंधनकारी होगा। श्रमिकों को समय पर वेतन भुगतान संबंधी प्रावधान पूर्वानुसार लागू रहेंगे। महिला श्रमिकों को समान कार्य के लिये समान वेतन संबंधी लाभ के कानून यथावत रहेंगे। श्रमिकों के स्वास्थ्य एवं सुरक्षा को सर्वोपरि मानते हुए इससे संबंधित कानूनी प्रावधानों से कोई समझौता नहीं किया गया है। इनमें किसी प्रकार की छूट नहीं दी गई है। कार्य के दौरान दुर्घटना आदि सुरक्षा से संबंधित कानूनी प्रावधान लागू रहेंगे। श्रमिकों की दुर्घटना आदि से सुरक्षा से संबंधित प्रावधान कानूनी यथावत रखे गए हैं। श्रमिकों के सवैतनिक अवकाश संबंधी कानूनी प्रावधान यथावत रहेंगे।
साप्ताहिक अवकाश का लाभ पूर्वानुसार प्रदान किया जाना होगा। श्रमिक हित में छंटनी तथा बंदीकरण के पूर्व नियमानुसार प्रक्रिया अपनाया जाना वैधानिक रूप से आवश्यक रहेंगे। महिला श्रमिकों को प्रसूति की स्थिति में 26 सप्ताह के सवैतनिक मातृत्व अवकाश की पात्रता के कानून लागू रहेंगे। छंटनी की स्थिति में एक माह की सूचना एवं वेतन के स्थान पर 3 माह की सूचना या वेतन के कानूनी प्रावधान लागू रहेंगे। मध्यप्रदेश औद्योगिक संबंध अधिनियम समाप्त होने से श्रमिकों की ओर से उनके श्रम संगठन नियोजकों से श्रमिक हितों की रक्षा के लिये पुनरू चर्चा के लिये सक्षम रहेंगे। मध्यप्रदेश श्रम कल्याण मण्डल, भवन एवं अन्य संनिर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल, मध्यप्रदेश स्लेट पेंसिल कर्मकार मण्डल की योजनाओं के लाभ पूर्वत प्राप्त होते रहेंगे। मुख्यमंत्री जनकल्याण(संबल) योजना में श्रमिकों को समस्त लाभ यथावत प्राप्त होते रहेंगे। कर्मकारी राज्य बीमा(ESI) अस्पतालों एवं क्लिनिकों का लाभ श्रमिकों को पूर्ववत मिलेगा।

----------------------/7/----------------------
विधिक सहायता हेल्प डेस्क ने वितरित की श्रमिकों को भोजन सामग्री

शिवपुरी। राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, जबलपुर के निर्देशानुसार जिला विधिक सेवा प्राधिकरण शिवपुरी द्वारा गृह राज्यों की ओर पलायन कर रहे मजदूरों को मूलभूत आवश्यक सामग्री उपलब्ध कराए जाने हेतु जिले के प्रमुख राजमार्गों पर विधिक सहायता हेल्प डेस्क लगाए गए है। हेल्प डेस्क के माध्यम से गुरूवार को पटैलचैक पडौरा शिवपुरी-झांसी एवं शिवपुरी-कोटा लिंक पर पलायन करने वाले श्रमिको को 150 भोजन पैकेट, 250 पानी की बोतल एवं 120 पानी पाउच वितरित किए।
इस मौके पर अपर जिला न्यायाधीश एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव प्रमोद कुमार, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट श्री अजय रामावत, न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी श्री पवन कुमार शंखवार, न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी कोलारस श्री जितेन्द्र कुमार शर्मा, पुलिस प्रशासन एवं न्यायालयीन कर्मचारीगण उपस्थित थे।
जिला विधिक सहायता अधिकारी श्रीमती शिखा शर्मा ने बताया कि यह मजदूर सड़क मार्ग के द्वारा मध्यप्रदेश राज्य से होकर गुजर रहे हैं, जिसके चलते उन्हें विभिन्न प्रकार की कठिनाईयों जैसे भोजन, पेयजल, यातायात इत्यादि का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने बताया कि समस्त जिला प्राधिकरणों के साथ-साथ जिला शिवपुरी को प्राप्त निर्देशों के तहत अंतर्राज्यीय एवं अंतर्जिला हाइवे पर ऐसे पलायनकर्ता मजदूरों को जीवन की मूलभूत आवश्यकताओं जैसे कि पानी, मास्क, गलब्स, चप्पल, भोज्य सामग्री जो कि यात्रा के दौरान आवगमन में सुविधाजनक हो उपलब्ध करवाई जा रही हैं। जिससे उन्हें यात्रा के दौरान परेशानी का सामना न करना पड़े। 

----------------------/8/----------------------
हायर सेकण्डरी और हायर सेकण्डरी व्यवसायिक के शेष विषयों की परीक्षा 9 जून से

शिवपुरी। माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा हायर सेकण्डरी और हायर सेकण्डरी व्यवसायिक परीक्षा- 2020 की शेष विषयों की परीक्षाओं का (सामान्य एवं दिव्यांग छात्रों के लिये) परीक्षा कार्यक्रम जारी कर दिया गया है। परीक्षाएँ 9 जून से 15 जून तक संचालित की जाएंगी। सभी प्राचार्यों को निर्देशित किया गया है कि सभी संबंधित विद्यार्थियों को परीक्षा कार्यक्रम की जानकारी देना सुनिश्चित करें। परीक्षार्थी परीक्षा की तिथि एवं समय मंडल की वेबसाइट www.mpbse.nic.in पर देख सकते हैं।
उल्लेखनीय है कि कोविड-19 के संक्रमण को देखते हुए मंडल द्वारा 20 मार्च से 31 मार्च तक आयोजित होने वाली समस्त परीक्षाएँ स्थगित कर दी गई थीं।
जिले में आपदा प्रबंधन हेतु नियंत्रण कक्ष स्थापित:-
कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी द्वारा शिवपुरी जिले में बाढ़, अतिवृष्टि आपदा नियंत्रण एवं प्रबंधन को दृष्टिगत रखते हुए मानसून वर्ष 2020 के लिए अधीक्षक भू-अभिलेख कार्यालय शिवपुरी में बाढ़ नियंत्रण कक्ष बनाया गया है। इसके प्रबंधन के लिए अपर कलेक्टर आर.एस.बालौदिया को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। बाढ़ नियंत्रण कक्ष का दूरभाष नम्बर 07492-233881 है।
बाढ़ नियंत्रण कक्ष के प्रभारी अधिकारी के रूप में अधीक्षक भू-अभिलेख श्री राकेश ढोडी को नियुक्त किया गया है। उक्त नियंत्रण कक्ष 15 जून 2020 से 30 सितम्बर 2020 तक सक्रिय रहेगा। अतिवर्षा की स्थिति बनने पर कंट्रोल रूम 24 घण्टे चलेगा।

----------------------/9/----------------------
इन क्षेत्रों में विद्युत प्रवाह बंद रहेगा आज

शिवपुरी। डाकबंगला उपकेन्द्र के 11 के.व्ही. विवेकानंद फीडर पर 22 मई को मानसून पूर्व आवश्यक रखरखाव कार्य कराये जाने के कारण विद्युत प्रवाह बंद रहेगा। आज 11 के.व्ही. विवेकानंद फीडर के बंद रहने पर प्रातः 9 बजे से दोपहर 02 बजे तक विवेकानंद कालोनी क्षेत्र प्रभावित रहेगा।

---------------------/10/---------------------
घर बैठे तनाव मुक्त रहने हेतु आनलाईन अल्पविराम शिविर कल से

शिवपुरी। म.प्र.शासन अध्यात्म विभाग, आनंद संस्थान द्वारा लाॅकडाउन अवधि में घर बैठे तनाव मुक्त तथा इस महामारी से स्वयं में सकारात्मक भाव जगाने राज्य आनन्द संस्थान के डेढ़-डेढ़ घंटे की अवधि के लिए ऑनलाइन अल्पविराम शिविर प्रदेश सहित शिवपुरी जिले से भी प्रारंभ किए गए है। आनलाईन शिविर के पंजीयन  पूर्णतः निःशुल्क है। राज्य आनंद संस्थान अध्यात्म विभाग के टीम मास्टर ट्रेनर ने बताया कि आनलाइन अल्पविराम प्रथम शिविर 22 से 27 मई, दूसरा शिविर 23 से 28 मई, तीसरा शिविर 24 से 29 मई, चौथा शिविर 25 से 30 मई, पांचवां शिविर 26 से 31 मई तक आयोजित किया जाएगा। उक्त सभी शिविर छः दिवस के लिए डेढ़ घंटे के होंगे। कोई भी शासकीय, अशासकीय व्यक्ति पंजीयन कर अपनी सुविधा अनुसार कोई एक शिविर का लाभ ले सकते हैं। 
राज्य आनंद संस्थान द्वारा इस अवधि में एक विशेष प्रकार से कार्यक्रम तैयार किया है। जिसके प्रथम एवं द्वितीय शिविरों का अच्छा फीडबैक रहा है, ये तीसरा चरण है। कोई भी नागरिक  www.anandsansthanmp.in लिंक पर पंजीयन कर सकते हैं या इस नंबर 7723929667 पर संपर्क कर सकते हैं। राज्य स्तरीय मास्टर ट्रेनर के पांच टीम तैयार की गई है, जो आनलाईन शिविर का संचालन करेंगे। इस प्रकार प्रतिदिन (6 दिन) डेढ़ घंटे हम शिविर का लाभ ले सकते है। जिसमे उन विधियों के माध्यम से शांत समय (अल्पविराम) व देश दुनिया में डर भय के वातावरण में हम कैसे ऊर्जा को सकारात्मक दिशा में परिवर्तित कर परिवार के साथ स्वस्थ व सुखी रह सकें। आनलाईन शिविर हेतु पंजियन के लिए अधिक से अधिक प्रतिभागियों को पंजीयन करने की अपिल की है। प्रतिभागी उपरोक्त 6 शिविरों में किसी एक शिविर में अपना पंजीयन सुनिश्चित करें। प्रत्येक समूह में 40-40 प्रतिभागियों के लिए स्थान सुरक्षित है, जो प्रथम आओ-प्रथम पाओ के आधार पर निश्चित होगा।

---------------------/11/---------------------
खेल छात्रवृत्ति के लिए आवेदन की अंतिम तिथि 31 मई

शिवपुरी। मध्यप्रदेश शासन खेल और युवा कल्याण विभाग द्वारा प्रतिवर्ष प्रोत्साहन स्वरूप खेल छात्रवृत्ति दी जाती है। इस वर्ष भी प्रतिभावान खिलाडियों को अधिकृत राष्ट्रीय, राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं में पदक विजेता खिलाड़ियों को खेलवृत्ति का प्रावधान है। कोविड-19 के संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए इस वर्ष खिलाड़ियों से खेलवृत्ति हेतु आवेदन पत्र 31 मई 2020 तक आॅनलाईन आमंत्रित किये गए है। 
संभागीय खेल और युवा कल्याण अधिकारी श्री एम,के,धौलपुरी ने जानकारी देते हुए बताया कि जो खिलाडी विगत वर्ष माह अप्रैल 2019 से 31 मार्च 2020 तक वित्तीय वर्ष की खेल उपलब्धियों में अधिकृत राष्ट्रीय/राज्य स्तरीय प्रतियोगिताआंे में प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान प्राप्त किया हो तथा निम्नानुसार उद्देश्यों की पूर्ति करता हो वह सीधे आवेदन पत्र विभागीय वेबसाइड http://mis.dsywmp.gov.in/sports_scholarship/Default.aspx पर आवष्यक दस्तावेज संलग्न कर आवेदन कर सकता है। आनलाईन आवेदन करने की अंतिम तिथि 31 मई 2020 निर्धारित की गई है। आॅनलाइन आवेदन करने में कोई परेषानी आ रही हो तो कार्यालय खेल और युवा कल्याण अधिकारी, श्रीमंत माधवराव सिंधिया जिला खेल परिसर, जाधव सागर के पास पुरानी शिवपुरी में कार्यालयीन समय में सम्पर्क स्थापित कर जानकारी प्राप्त सकता है। 
अधिकृत राष्ट्रीय एवं राज्य स्तरीय पदक विजेताओं को पुरूस्कार के लिए 01 अप्रैल, 2020 को खिलाडी की आयु 19 वर्ष से अधिक नही होनी चाहिए। खिलाडी शिवपुरी जिले का मूल निवासी होना अनिवार्य है। आवेदनकर्ता को आवेदन पत्र के साथ संबंधित खेल का प्रमाण पत्र, अंकसूची, जन्म प्रमाण पत्र, मूल निवास प्रमाण पत्र, अपना स्वयं का आधारकार्ड एवं स्वयं के नाम से बैंक में संचालित बैंक पासबुक की छायाप्रति अनिवार्य रूप से संलग्न की जाना आवश्यक है तथा आवेदन पत्र जमा करते समय मूल दस्तावेज साथ लाना अनिवार्य है। आवेदक को विगत 01 वर्ष 01 अप्रैल 2019 से वर्तमान वर्ष 31 मार्च 2020 तक विगत वित्तीय वर्ष की खेल उपलब्धियांें की गणना की जाएगी। अधिकृत राष्ट्रीय, राज्य स्तरीय खेल प्रतियोगिताओं में स्वर्ण, रजत, कांस्य पदक अर्जित करने वाले खिलाडियों को दी जाएगी। खेल अकादमी, प्रशिक्षण केन्द्र, खेल छात्रावास में निवासरत खिलाड़ियों एवं अन्य संस्थाओं से खेल छात्रवृत्ति प्राप्त करने वाले खिलाडियों को आवेदन की पात्रता नही होगी।
आवेदक आवेदन सीधे विभागीय वेबसाइड पर आवश्यक दस्तावेज संलग्न कर  आॅनलाइन किया जा सकता है। आवेदन करने में कोई परेषानी आ रही है, तो कार्यालय जिला खेल और युवा कल्याण अधिकारी श्रीमंत माधवराव सिंधिया, जिला खेल परिसर, जाधव सागर के पास पुरानी शिवपुरी से कार्यालयीन समय प्रातः 10.30 बजे से सायं 5.00 बजे तक सम्पर्क कर सकता है। निर्धारित तिथि पश्चात आवेदन पत्र स्वीकार्य नहीं किये जायेगा।

---------------------/12/---------------------
तथाकथित समाजसेवी उड़ा रहे नियमों की धज्जियां, अधिकारियों की नजर में चेहरा चमकाने की लगी होड़
-खुद का बैनर लगाकर 4 मालाऐं पहनाते हुए फ़ोटो खिंचबाकर कर रहे हैं खुद का प्रचार प्रसार- 

शिवपुरी। कोरोना काल में शासन-प्रशासन जहां इंसान की जान बचाने के लिए हर संभव प्रयास कर रहा है वहीं दूसरी ओर तमाम तथाकथित ऐसी समाजसेवी संस्थाएं भी हैं जो इस महामारी के बीच अधिकारियों के सामने अपना चेहरा चमकाने से भी नहीं चूक रहे हैं। ऐसा ही एक मामला शहर शिवपुरी से सामने आया है जिसमें एक तथाकथित समाजसेवी संस्था अधिकारियों के बीच अपना चेहरा चमकाने के लिए महज 4-6 मालाएं व फूल पत्तियां लेते हुए अपना पोस्टर टांग कर कोरोना की जंग लड़ रहे अमले का सम्मान करने का ढोंग रचा रहे हैं। इस दौरान इन तथाकथित संस्थाओं द्वारा न ही तो सोशल डिस्टेंसिंग का कोई ध्यान रखा जा रहा और न ही अन्य सावधानियां बरती जा रहे है। जी हां हम बात कर रहे है शिवपुरी में संचालित कथित समाजसेवी संस्था जेसीआई सहित अन्य कुछ संस्थाओं की जिनके द्बारा पिछले कुछ दिनों से कोरोना की जंग लड़ने में अहम भूमिका निभा रहे लोगों का सम्मान किए जाने का स्वांग रचा गया।उक्त संस्था कुछ माला और फूल पत्तियां लेकर विभिन्न स्थानों पर पहुंची जहां इसके द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाते हुए अपना चेहरा चमकाने की जुगत में सफाईकर्मी सहित अन्य को माला पहनाकर फोटो सेशन कराना नहीं भूला गया। अगर यह संस्थाएं असल समाज सेवा करना चाहती हैं तो यह माला पहनाते हुए फ़ोटो खिंचवाना बंद करते हुए इन्हें पडोरा एवं सुरवाया चौराहों पर पहुंचकर उन मजदूरों की सेवा करना चाहिए जो वर्तमान में बड़ी तादाद में फोर लाइन हाईवे से भूखे प्यासे अपने घरों के लिए गुजर रहे हैं, लेकिन शहर में संचालित अधिकांश तथाकथित समाजसेवी संस्था चार माला लेकर फोटो खिंचवाने तक सीमित दिखाई दे रही हैं। जानकारों का कहना है कि यह संस्थाएं सिर्फ और सिर्फ अधिकारियों की नजर में अपना चेहरा चमकाइ करने के लिए माला लेकर फोटो खिंचवाने के लिए पहुंच रहे हैं। जबकि समाज सेवा से इनका कोई भी सरोकार नहीं है और अगर इनका समाज सेवा से सरोकार होता तो कोरोना काल में जो नियम सावधानियां बरतने के लिए बताए गए हैं इनके द्वारा उनका पालन भी किया जाता लेकिन अधिकांश संस्थाएं अपना चेहरा चमकाने और फोटो खिंचवाने की होड़ में इस कदर जुटे हुए हैं कि वह सभी नियमों को ताक पर रखकर बिना सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें मालाएं पहनाते हुए फोटो खिंचवाते हुए इन्हें सोशल मीडिया पर डाल कर खुद का प्रचार-प्रसार करने से नही चूक रहे।

---------------------/13/---------------------
प्रमुख बाजारों में उमड़ी भीड़, नहीं हो रहा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन

शिवपुरी। जनता की समस्या को ध्यान में रखते हुए शासन ने सीरियल के आधार पर बाजार की दुकानें खोलने के आदेश पारित किए थे। आदेश में सोशल डिस्टेंशन का कड़ाई से पालन हो का निर्देश भी साथ में जारी किया गया था, शासन के आदेश के बाद शहर के प्रमुख बाजारों में पुलिस प्रशासन द्वारा बैरीकेट्स लगाए गए थे।
जिसके कारण लोग अपने वाहनों को अन्य स्थानों पर पार्किंग करके पैदल ही बाजार में खरीददारी के लिए पहुंच रहे थे। इस व्यवस्था के चलते सोशल डिस्टेंशन का भी पालन हो रहा था। लेकिन यातायात विभाग की लापरवाही के चलते लोग बैरीकेट्स को हटाकर खुलेआम अपने वाहनों प्रमुख बाजारों में ले जा रहे थे। जिससे दुकानों पर भीड़ एकत्रित हो जाती हैं।
लॉकडाउन-4 में प्रशासन द्वारा बाजार सुबह 9 से शाम साढ़े 5 बजे तक खोलने की अनुमति दी गई है। बाजारों में भीड़ कम करने के लिए वैरीकेट्स लगाए गए हैं । कोर्ट रोड को वन-वे घोषित किया गया है। लखेरा गली और सुनार गली में वैरीकेट्स  लगाए हैं। लेकिन बतासा गली में से वाहनों को गुजरना जारी है।  टेकरी पर भी वाहनों के प्रवेश से बहुत भीड़ लग रही है। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो रहा।
दुकानों में भी भीड़ उमड़ रही है। प्रशासन द्वारा अनुमति दी गई थी कि दुकानों में 5 से अधिक लोग न रहें। लेकिन स्थिति यह है कि दुकान के स्टाफ की संख्या भी 5 से अधिक है। प्रशासन की ढिलाई के कारण जनता भी अजागरूक हो रही है। जबकि इस समय बाहर से आने जाने वाले लोगों का सिलसिला जारी है। कल ही नरवर का एक युवक संक्रमित पाया गया। क्या प्रशासन बाजारों में सोशल डिस्टेंसिंग कायम रखने पर ध्यान देगा और सकरी गलियों में से वाहनों का निकलना प्रतिबंधित करेगा।
आज से खुलेगी हेयर कटिंग,सैलून और पार्लर की दुकानें:-
वैश्विक कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन के दौरान पिछले लगभग दो माह से बंद हेयर कटिंग, सैलून व पार्लर की दुकानें नहीं खुल रही थी, लेकिन आज प्रमुख सचिव एसएन मिश्रा, नियमों के आधार पर कहा कि बुखार, जुकाम, खांसी एवं गले में खराश वाले व्यक्तियों का प्रवेश निषेध होगा। साथ ही निर्देश जारी किए हैं कि सभी दुकान संचालकों को मास्क के उपयोग के साथ-साथ बार-बार सेनेटाईज करना होगा साथ ही औजारों को सेनेटाई करके ही उपयोग किया जाए यदि ऐसा करते नहीं मिले तो वैधानिक कार्यवाही की जाएगी।