शिवपुरी जिलेभर की आज की विशेष खबरें जो आपके लिये है खास दिनांक 18-मई-2020 - TIMESNEWS

Breaking

TIMESNEWS

सच्चाई की कलम से

Monday, May 18, 2020

शिवपुरी जिलेभर की आज की विशेष खबरें जो आपके लिये है खास दिनांक 18-मई-2020

----------------------/1/----------------------
आज सोमवार से एक साथ खुलेगा बाजार, जिन पर पहले था प्रतिबंध वे प्रतिष्ठान रहेंगे बंद
-अधिकारियों ने की अपील, बाजारों में न लगाएं भीड़, नियमों का करें पालन-
शिवपुरी। सोमवार से बाजार खोले जाने को लेकर नए दिशा निर्देश जारी हुए हैं। जिनमें दुकान खोलने का समय परिवर्तन किया गया है। इस दौरान दुकान संचालकों को सभी नियमों का पालन करना होगा। साथ ही जो प्रतिष्ठान पहले से बंद चले आ रहे थे वह आगे भी बंद ही रहेंगे।
डीएम अनुग्रह पी व एसपी राजेश सिंह चंदेल ने सयुक्त रूप से जानकारी देते हुए बताया कि शनिवार तक बाजार की जो दुकानें अलग-अलग समय पर खोली जा रहीं थी, वह सभी दुकानें अब सोमवार से एक साथ खोली जा सकेंगी। दुकानों को खोलने के समय मे परिवर्तन किया गया है। जो कि अब सुबह 7 बजे से शाम 5:30 बजे तक रहेगा। दुकान संचालक अपनी मर्जी के अनुसार दुकानें खोल सकेंगे। पुलिस प्रशासन के आला अधिकारियों ने बताया कि अभी तक जो प्रतिष्ठान बंद चले आ रहे थे वे आगामी आदेश तक बंद ही रहेंगे। जिला पुलिस प्रशासन ने जिलेवासियों से अपील करते हुए कहा है कि लोग बाजार में अलग-अलग समय पर ही खरीदारी करने के लिए घरों से बाहर निकलें, बाजारों में भीड़ न लगाएं, मास्क लगाना, सोशल डिस्टेंसिंग सहित अन्य सभी नियमों का पालन करें। बताया जा रहा है कि अगर बाजारों में भीड़ लगी दिखाई दी और नियमों का पालन नही किया गया तो किसी भी समय प्रतिबंध के साथ नए नियम लागू किए जाने के आदेश जारी हो सकते हैं।

----------------------/2/----------------------
आज इन क्षेत्रों में विद्युत प्रवाह बंद रहेगा

शिवपुरी। डाकबंगला उपकेन्द्र के 11 के.व्ही. खुड़ा फीडर पर 18 मई 2020 को मानसून पूर्व आवश्यक रखरखाव कार्य कराये जाने के कारण विद्युत प्रवाह बंद रहेगा।
आज 11 के.व्ही. खुड़ा फीडर के बंद रहने पर प्रातः 8 बजे से दोपहर 02 बजे तक बीटीपी स्कूल, सर्किट हाउस, पीएस रेसिडेंसी क्षेत्र प्रभावित रहेंगे। 

----------------------/3/----------------------
मध्यप्रदेश में गेहूँ का ऑल टाइम रिकार्ड उपार्जन

शिवपुरी। मध्यप्रदेश में इस बार गेहूँ का समर्थन मूल्य पर रिकार्ड उपार्जन किया गया है। कोरोना संकट के होते हुए भी मात्र एक माह की अवधि में 12 लाख 61 हजार 764 किसानों से 87 लाख 43 हजार 214 मीट्रिक टन गेहूँ समर्थन मूल्य पर उपार्जित कर लिया गया है, जो कि मध्यप्रदेश के लिये ऑल टाइम रिकार्ड है। साथ ही समर्थन मूल्य पर गेहूँ उपार्जन के क्षेत्र में मध्यप्रदेश देश में दूसरे स्थान पर आ गया है। पहले स्थान पर पंजाब में इस वर्ष एक करोड़ 21 लाख 64 हजार 157 मीट्रिक टन गेहूँ की समर्थन मूल्य पर खरीदी की गई है। वहीं उत्तर प्रदेश तीसरे स्थान पर है, जहाँ अभी तक इस वर्ष 14 लाख 79 हजार 51 मीट्रिक टन समर्थन मूल्य पर गेहूँ उपार्जित हुआ है। इसके पहले वर्ष 2012 में मध्यप्रदेश में 10 लाख 26 हजार 988 किसानों से सर्वाधिक 84 लाख 89 हजार 587 मीट्रिक टन गेहूँ उपार्जित किया गया था। उपार्जन के अंतर्गत एक दिवस में 64 हजार 244 किसानों से 4 लाख 98 हजार 578 मीट्रिक टन गेहूँ खरीदा गया, इतनी मात्रा में एक दिवस में गेहूँ कभी नहीं खरीदा गया।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज मंत्रालय में प्रदेश में गेहूँ उपार्जन कार्य की समीक्षा के दौरान प्रदेश में हुए इस उत्कृष्ट कार्य के लिये खाद्य-नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग के प्रमुख सचिव श्री शिवशेखर शुक्ला सहित पूरी टीम की सराहना की। बैठक में मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस तथा अन्य संबंधित उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना संकट के समय में किसानों के गेहूँ का तत्परता से उपार्जन किये जाने तथा किसानों के खातों में त्वरित गति से राशि आ जाना किसानों के लिये बड़ी राहत है। उन्होंने निर्देश दिये कि गेहूँ की बम्पर आवक को देखते हुए प्रदेश में गेहूँ उपार्जन के लिये निर्धारित लक्ष्य 100 लाख मीट्रिक टन से अधिक लगभग 100 लाख 10 हजार मीट्रिक टन के उपार्जन की व्यवस्था की जाये।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गेहूँ उपार्जन के साथ ही उसका त्वरित गति से परिवहन एवं भण्डारण भी सराहनीय है। उपार्जित गेहूँ में से 72 लाख 80 हजार मीट्रिक टन की मात्रा का परिवहन एवं भण्डारण कराया जा चुका है। उपार्जन के अंतर्गत 10 लाख किसानों को लगभग 10 हजार करोड़ रुपये का भुगतान किया जा चुका है।
अन्य राज्यों की स्थिति:-
अन्य राज्यों में इस वर्ष गेहूँ उपार्जन के अंतर्गत अभी तक राजस्थान में 6 लाख 49 हजार 440 मी. टन, उत्तराखण्ड में 25 हजार 689 मी. टन, चंडीगढ़ में 10 हजार 953 मी. टन, दिल्ली में 18 मी. टन, गुजरात में 14 हजार 610 मी. टन, हिमाचल प्रदेश में 2457 मी. टन तथा जम्मू-कश्मीर में 11 हजार मी. टन गेहूँ का अभी तक उपार्जन किया गया है।
गत 9 वर्षों की स्थिति:-
प्रदेश में वर्ष 2013-14 में 63 लाख 53 हजार मी. टन, वर्ष 2014-15 में 72 लाख 1 हजार मी. टन, वर्ष 2015-16 में 73 लाख 10 हजार मी. टन, वर्ष 2016-17 में 39 लाख 91 हजार मी. टन, वर्ष 2017-18 में 67 लाख 25 हजार मी. टन, वर्ष 2018-19 में 73 लाख 16 हजार मी. टन तथा वर्ष 2019-20 में 73 लाख 69 हजार मी. टन गेहूँ का समर्थन मूल्य पर उपार्जन किया गया। यहाँ यह भी उल्लेखनीय है कि इन वर्षों में उक्त कार्य पूरी उपार्जन अवधि लगभग 50 दिन में किया गया था, जबकि इस वर्ष खरीदी प्रारंभ होने के एक महीने की अवधि में ही इससे अधिक गेहूँ का उपार्जन किया गया है।

----------------------/4/----------------------
इस सप्ताह लगभग 600 प्रवासी श्रमिकों को पहुंचाया उनके घर

शिवपुरी। कोविड-19 के संक्रमण को रोकने हेतु देश में लागू लॉकडाउन के तहत देश के विभिन्न राज्यों में प्रदेश के एवं सीमावर्ती राज्यों के प्रवासी श्रमिकों को उनके घरों तक पहुँचाने की व्यवस्था प्रदेश सरकार द्वारा की गई है। शिवपुरी जिले में भी प्रतिदिन कई प्रवासी श्रमिक आ रहे हैं और जिला प्रशासन द्वारा बसों के माध्यम से श्रमिकों को उनके घरों तक भेजा जा रहा है। जो श्रमिक प्रदेश के अन्य जिलों से संबंधित हैं उनके लिए भी व्यवस्था करके प्रतिदिन उनके घर पहुंचाया जा रहा है। जिलों में पहुँचने वाले प्रवासी श्रमिकों को थर्मल स्क्रीन कर ठहरने, भोजन, पानी आदि की व्यवस्था के साथ ही उनके गृह जिलों तक भेजने के लिये स्थानीय जिला प्रशासन द्वारा विशेष प्रबंध किए गए हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार एक सप्ताह में लगभग 600 श्रमिकों को उनके गृह जिलों में भेजा गया है। सोमवार को 40, मंगलवार को 32, बुधवार को 53, गुरुवार 69, शुक्रवार को 221 और शनिवार को 176 प्रवासी श्रमिकों को उनके घर भेजा गया है। इन्हें प्रदेश के विभिन्न जिलों जैसे सिवनी, दमोह, कटनी, शहडोल सतना, पन्ना, रीवा, अनूपपुर, छतरपुर, डिंडोरी, विदिशा, मंडला, सिंगरौली आदि जिलों में जिला प्रशासन द्वारा उनके घर पहुंचाया गया है।

----------------------/5/----------------------
मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा विद्यार्थियों के हित में महत्वपूर्ण घोषणाएँ

शिवपुरी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज प्रदेश के विद्यार्थियों के हित में महत्वपूर्ण घोषणाएँ की हैं। उन्होंने कहा कि माध्यमिक शिक्षा मण्डल द्वारा आयोजित की जाने वाली कक्षा 10वीं की परीक्षा के शेष बचे पेपर की परीक्षा नहीं ली जायेगी। जिन विषयों की परीक्षा हो चुकी है, उन्हीं के अंक के आधार पर मैरिट तैयार की जायेगी। बचे हुए विषय के आगे ‘‘पास’’ लिखा जायेगा।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि 12वीं की परीक्षा बच्चों के भविष्य के लिये बहुत महत्वपूर्ण है। बारहवीं का परीक्षा परिणाम उनका भविष्य निर्धारित करता है। बारहवीं की परीक्षा के जो पेपर बचे हुए हैं, उनकी परीक्षा 8 जून 2020 से 16 जून 2020 के मध्य आयोजित की जायेगी। सीबीएसई की परीक्षा की तिथियाँ भी घोषित हो गई हैं।
निजी स्कूल केवल टयूशन फीस ले सकेंगे:-
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने यह भी घोषणा की है कि निजी स्कूल विद्यार्थियों से केवल टयूशन फीस ले सकेंगे। प्रदेश में 19 मार्च से लॉकडाउन रहने के कारण लॉकडाउन समाप्त होने की अवधि तक निजी विद्यालय बंद रहे हैं, इसलिए टयूशन फीस के अलावा कोई फीस नहीं ले सकेंगे। विद्यालय चल सके इसलिए टयूशन फीस ली जा सकेगी। इसके अतिरिक्त लायब्रेरी, बस, स्पोर्ट्स और अन्य कोई भी शुल्क नहीं लिया जा सकेगा। स्कूल खुलने के बाद विद्यालय अपना फैसला करेंगे।