शिवपुरी जिलेभर की आज की विशेष खबरें जो आपके लिये है खास दिनांक 17-मई-2020 - TIMESNEWS

Breaking

TIMESNEWS

सच्चाई की कलम से

Saturday, May 16, 2020

शिवपुरी जिलेभर की आज की विशेष खबरें जो आपके लिये है खास दिनांक 17-मई-2020


----------------------/1/----------------------
प्रवासी मजदूरों के लिए आगे आए ट्रांसपोर्ट व्यवसाई 
शिवपुरी। इन दिनों मानवता की सेवा करने का अनूठा उदाहरण आए दिन देखने को मिल रहा है। इसी क्रम में ट्रांसपोर्ट व्यवसाई मुकेश जैन द्वारा फोरलेन ग्राम रायश्री मोड पर हजारों प्रवासी मजदूरों के लिए लंगर व्यवस्था की गई है। इस सेवा कार्य मे ब्रज दुबे सहित अन्य लोगों का भी सहयोग मिल रहा है जिससे प्रवासी मजदूरों को लॉकडॉन का पालन और नियम निर्देशो के तहत भोजन सामग्री बांटी जा रही है। यह सेवा कार्य मुख्य रूप से बड़ोदी से आगे हाइवे पर रायश्री मोड पर मुकेश जैन मगरौनी वालो की ओर से विगत कई दिनों से अनवरत भंडारा सेवा जारी है।
यहां गुजरात, महाराष्ट्र आदि से अपने घरोँ को लौट रहे मजदूरों की परेशानी को ध्यान में रखते हुए ट्रांसपोर्ट व्यवसायी मुकेश जैन ने द्वारा रायश्री मोड गोपाल मोटर्स के पास यह व्यवस्था की है ताकि यहां से गुजरने वाले प्रवासी मजदूरों को भोजन व्यवस्था की गई है जो सुबह 6 बजे से रात 8 बजे तक जारी रहती है। यहां से गुजरने वाले ट्रकों, ऑटो, साइकल, बाईकों व पैदल अपने घरोँ को जा रहे मजदूर को रोककर उन्हें भंडारा रूपी सब्जी पूड़ी, खिचड़ी बांटी जा रही है साथ ही कुछ अन्य समाजसेवी संस्थाओं द्वारा समीप ही स्टाल पर अपने पोहे की स्टॉल लगाकर आदि भी रख जाते हैं और यह सब भोजन सामग्री सहित पानी की व्यवस्था निरंतर की जा रही है।

----------------------/2/----------------------
आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिकाओं, एएनएम को बांटे मास्क व सेनेटाइजर
पोहरी। कोरोना वायरस के कारण पूरे देश में लॉक डाउन है। इधर माता एवं बच्चों को सेवाएं दे रही आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका, एएनएम द्वारा टीकाकरण टेक होम राशन वितरण का काम किया जा रहा है। इन मैदानी कार्यकर्ताओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए क्राई नई दिल्ली के सहयोग से विकास संवाद समिति पोहरी द्वारा सभी ब्लॉक की आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, सहायिकाओं, आशा कार्यकर्ता, एएनएम को सैनिटाइजर मास्क, पीपीई किट का वितरण किया गया जिसमें एक कार्यकर्ता को 13 मास्क डिस्पोजल तथा 4 मास्क कॉटन एवं दो सैनिटाइजर एक किट में एक कार्यकर्ता को दी। इस प्रकार पोहरी ब्लॉक की 500 से ज्यादा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका, आशा कार्यकर्ता, एएनएम, आईसीडीएस, सुपरवाइजरों को एक-एक किट दी गई जिससे कोरोना से बचाव किया जा सके और माता एवं बच्चों को जो सेवा दी जा रही हैं जैसे टेक होम राशन गर्भवती महिलाओं को बच्चों को दिया जा सके। इसी प्रकार गांव में जो टीकाकरण किया जा रहा है गर्भवती महिलाओं को बच्चों को वह आसानी से किया जा सके इसके लिए सभी ब्लॉक की फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं को एक किट उपलब्ध कराई गई है जिसमें 322 किट आईसीडीएस विभाग पोहरी के परियोजना अधिकारी नीरज सिंह गुर्जर के माध्यम से कार्यकर्ताओं तक पहुंचाई जा रही हैं तथा आशा कार्यकर्ता एएनएम को संस्था द्वारा उपलब्ध कराई जा रही हैं।

----------------------/3/----------------------
प्रावासी मजदूरों को तहसीलदार व पटवारियों ने वितरित किया भोजन
शिवपुरी। कोरोना महामारी के चलते पूरे देश में लॉकडाउन है। ऐेसे में सभी उद्योग धंधे सहित अन्य कामकाज भी बंद हो गए हैं जिस वजह से अब मजदूरों ने अपने घर की ओर कूच करना शुरू कर दिया है। वहीं लॉकडाउन होने की वजह से वाहन व रेल सुविधाएं बंद है। मजदूरों द्वारा पैदल, बाइक सहित जो भी साधन मिल रहा है उससे वह अपने गंतव्य स्थल तक पहुंच रहे हैं। इनमें से अधिकतर मजदूर ऐसे हैं जो सैकड़ोें किमी की यात्रा कर अपने घर पैदल ही जा रहे हैं। पैदल जाने वाले प्रवासी मजदूरों के लिए समाजसेवी सहित प्रशासनिक अधिकारी-कर्मचारी मदद कर रहे हैं। वहीं शनिवार को महाराष्ट्र के मजदूर जब बदरवास होकर निकले तो तहसीलदार दिव्य दर्शन दर्शन शर्मा सहित पटवारी नीरज दांगी, अवधेश शर्मा, ओम शर्मा ने भोजन वितरण कर सेवा कार्य किया। तहसीलदार ने बताया कि यह सेवा कार्य आगे भी जारी रहेगा और प्रवासी मजदूरों की हर संभव मदद की जाएगी।

----------------------/4/----------------------
प्याज की अधिक तौल को लेकर किसानों का मंडी में हंगामा, तहसीलदार मौके से भागे
-एसडीएम ने संभाला मोर्चा, किसानों व व्यापारियों को दी समझाईश तब कहीं जाकर हुआ मामला शाांत-
शिवपुरी। शनिवार को मंडी में प्याज बेचने आए किसानों ने हंगामा कर दिया। हंगामा अधिक तौल व आड़त लेने पर शुरू हुआ। हंगामा होते देख मौके पर मौजूद तहसीलदार मौके से भाग गए। किसानों ने मंडी सेकेट्री पर व्यापारियों से मिले होने के आरोप भी लगाए। बाद में पुलिस व एसडीएम मौके पर पहुंचे जिन्होंने किसानों को समझाईश दी तब कहीं जाकर मामला शांत हुआ। 
पिपरसमा मंडी में शनिवार को जब किसान प्याज लेकर आए तो अधिक तौल को लेेकर विरोध किया। विरोध करने पर आड़तियों ने प्याज की खरीदी बंद कर दी। इसको लेकर मंडी में मौजूद किसानों ने हंगामा कर दिया। यह हंगामा करीब 2 घंटे तक चलता रहा। हंगामा होते देख मौके पर मौजूद तहसीलदार अपने वाहन को लेकर मौके से भाग गए। किसानों ने बताया कि मंडी में किसानों को खुलेआम लूटा जा रहा है। 40 किलो की जगह 42 किलो की तौल की जा रही है तथा तौल खत्म होने पर एक बोरी फ्री में आड़तियों द्वारा ली जा रही है इतना ही नहीं 5 प्रतिशत आड़त भी किसानों सेे वसूल की जा रही है। जब अधिक तौल का विरेाध किया तो आड़तियों व व्यापारियों ने माल की खरीदी करने से मना कर दिया और कहा कि लॉकडाउन में तुम्हारा माल और कोई नहीं खरीदेगा लौट-फिरकर यहीं वापस आना होगा। वहीं किसानों ने मंडी सेेकेट्री एएस तोमर पर व्यापारियों से मिले होने के आरोप लगाए और कहा कि एक कच्ची रसीद पर खरीदी की जा रही है और माल के दाम भी सही न लगाकर औने-पौने दामों पर प्याज खरीदी जा रही है। वहीं राजस्थान के किसान भी इसी मंडी में प्याज बेचने आ रहे हैं उन पर भी कोई रोक नहीं लग रही है। किसानों ने यह भी आरोप लगाए कि यहां मंडी की रसीद बना दी जाती है और 8 किलोमीटर दूर हवाई पट्टी पर उन्हें प्याज की तौल कराने जाना पड़ती है जिससे वह परेशान हो रहे हैं। मामले की सूचना मिलते ही पुलिस व एसडीएम मौके पर पहुंचे जहां उन्होेंने किसानों से बातचीत कर समझाईश दी इसके बाद दोबारा से मंडी में खरीदी शुरू हो सकी।
मंडी में नहीं है सेनेटाइजर व मास्क की व्यवस्था:-
किसानों ने बताया कि मंडी में उनके लिए कोई सुविधा नहीं है। यहां न तो सेनेटाइजर है और न ही मास्क। जब सुरक्षा की दृष्टि से मंडी में सेनेटाइजर व मास्क की व्यवस्था करनी चाहिए थी। वहीं अन्य सुविधाएं भी किसानों को नहीं मिल रही है। शिकायत करने पर कोई भी सुनवाई नहीं होती। 
अब तहसीलवार होगी प्याज की तौल, राजस्थान की प्याज की नहीं होगी तौल:-
एसडीएम अरविंद वाजपेयी ने कहा कि इस बार प्याज की बंपक पैदावार हुई है जिस कारण मंडी हर क्षेत्र का किसान प्याज बेचने आ रहा है और इसी वजह से मंडी में प्याज बेचने आए किसानों की लाइन लग जाती है जिससे खरीदी में परेशानी आती है। इसलिए अब अलग-अलग दिन तहसीलवार किसानों की प्याज की तौल मंडी में की जाएगी। वहीं राजस्थान के व्यापारी मंडी में प्याज नहीं बेच सकेंगेे इसके लिए बार्डर पर चैकिंग लगवा दी गई है। 
इनका कहना हैं
मामले को लेकर जब एसडीएम अरविंद वाजपेयी से बात की तो उनका कहना था कि हंगामे की सूचना पर वह तुरंत मौैके पर पहुंच गए थे। जहां उन्होंने किसानों से चर्चा की। किसानों ने बताया कि प्याज की अधिक तौल की जा रही है और 5 प्रतिशत आड़त भी ली जा रही है। हमने किसानों व व्यापारियों को समझाया और प्याज की तौल शुरू करवाई।
-अरविंद बाजपेई, एसडीम शिवपुरी-

----------------------/5/----------------------
होम क्वॉरेंटाइन की जमीनी हकीकत, विभागीय लापरवाही से कहीं शिवपुरी पर नही बन जाये आफत 
शिवपुरी। कोरोना वायरस को लेकर शिवपुरी जिला प्रशासन व स्वास्थ विभाग कितना सजग है इसका उदाहरण आज शिवपुरी में देखने को मिला है जहाँ स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिस घर को क्वॉरेंटाइन किया है उसी घर मे एक नहीं तीन प्रकार की दुकान संचालित हो रही है। जिस पर अभी तक जिला प्रशासन की नजर नहीं पड़ी है।
नियमानुसार अगर एक शहर में दूसरे शहर का कोई भी व्यक्ति आता है तो उसे सर्व प्रथम चिकित्सालय जाकर अपना स्वास्थ्य परीक्षण कराना होता है जिसके बाद जिस घर मे वह व्यक्ति रहने वाला है उस घर को स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा क्वॉरेंटाइन किया जाता है तथा साथ ही उस घर से अन्य लोगों को दूरी बनाने की हिदायत भी दी जाती है।
क्वॉरेंटाइन किये हुये घर मे संचालित हो रही है दुकान:-
कोरोना को लेकर जिला प्रशासन व स्वास्थ अमला कितना सजग है इसका उदाहण छत्री रोड़ पर हो रही संचालित दुकान को देखकर लगाया जा सकता है।
शिवा जी नगर वार्ड नंबर 7 छत्री रोड़ पर देवेंद्र राठौर की आटा चक्की व जनरल स्टोर की दुकान आज भी संचालित है और 15 मई को जितेश राठौर व इशिका राठौर जो इंदौर से लौटे थे जिन्हें स्वास्थ विभाग द्वारा इसी घर में होम क्वॉरेंटाइन किया गया था।
हालांकि जब दुकान संचालक देवेंद्र राठौर से इस लापरवाही के बारे में पूछा तो उनके द्वारा बताया गया कि स्वास्थ विभाग की टीम हमारे घर आई थी और वह दो प्रकार के नोटिस घर पर लगा कर चली गई थी अगर संबंधित जानकारी अगर वह हमें बताते तो निश्चित ही मेरे द्वारा पालन किया जाता साथ ही देवेंद्र राठौर ने यह भी बताया कि इंदौर से आये हुए दोनों बच्चों को घर के एक अलग कमरे में रुकवाया गया है जहां उनकी सभी जरूरतों को पूरा किया जा रहा है
शिवपुरी में किये गये होम क्वॉरेंटाइन:-
स्वास्थ्य विभाग द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार अभी तक 49457 लोगों को होम क्वॉरेंटाइन किया गया है जिसमें से 34091 लोगों ने इसका समय भी पूरा कर लिया है और अभी भी 15366 लोगों को घर मे होम क्वॉरेंटाइन का समय अपने घरों में व्यतीत कर रहे है।
हालांकि आज की इन तस्वीरों से साफ़ होता है कि शिवपुरी में होम क्वॉरेंटाइन की जमीनी हकीकत क्या है किस प्रकार स्वास्थ विभाग दो नोटिसों को घरों के वाहर चिपका कर अपना पल्ला झाड़ लेती है।
जब इस विषय पर सीएमएचओ अर्जुन लाल से फ़ोन पर बात करने की कोशिश की गई तो हमेशा की तरह किये गये फोन कॉल को स्वीकार नहीं किया  कोरोना काल मे सीएमएचओ अर्जुन लाल की एक ओर स्थति सामने आई है जिसमें उनके द्वारा लगातार मीडिया से बचने की कोशिश की गई है।
फिलहाल क्या इसी प्रकार से शिवपुरी में होम क्वॉरेंटाइन किया जा रहा है क्या इसी प्रकार से जितने भी लोगों ने अपना समय व्यतीत किया है वह इसी वाक्या से मिलता जुलता है।
यदि इस मामले से कोई अप्रिय खबर आती है तो कितने लोग संक्रमण का शिकार हो सकते है कुल मिलाकर कर कह सकते है कि कोरोनाकाल मे शिवपुरी का स्वास्थ्य विभाग भगवान भरोसे है।

----------------------/6/----------------------
राजमाता विजयाराजे सिंधिया ट्रस्ट ने अब स्वास्थ्य महकमे को उपलब्ध कराईं 500 पीपीई किट
शिवपुरी। लॉक डाउन की शुरुआत से ही लोगों की मदद के लिए राजमाता विजयाराजे सिंधिया सेंटर फॉर डेवलपमेंट ट्रस्ट काम कर रहा है। शिवपुरी विधायक यशोधरा राजे सिंधिया के निर्देशन में ट्रस्ट द्वारा अभी तक कई जरूरतमंद परिवारों को राशन और खाने के पैकेट उपलब्ध कराए गए हैं। इसके साथ ही कोरोना ड्यूटी में लगे कर्मचारियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए ट्रस्ट द्वारा जिला चिकित्सालय को पीपीई किट भी उपलब्ध कराई गई हैं। शनिवार को ट्रस्ट से जुड़े सदस्यों द्वारा जिला चिकित्सालय पहुंचकर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. ए.एल.शर्मा और सिविल सर्जन डॉ पी.के.खरे को यह किट भेंट की गईं। ट्रस्ट द्वारा 500 पीपीई किट जिला चिकित्सालय को दी गई है। इस दौरान डॉक्टर संजय ऋषिश्वर और डॉ साकेत सक्सेना भी उपस्थित थे। ट्रस्ट की ओर से विपुल जैमिनी, श्रीमती रश्मि गुप्ता, श्रीमती गायत्री शर्मा, राजेंद्र शिवहरे और कप्तान यादव ने सीएमएचओ को किट प्रदान की। गौरतलब है कि अब से पूर्व ट्रस्ट द्वारा कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक की मौजूदगी में कलेक्ट्रोरेट कार्यालय में को एक हजार किट्स भी उपलब्ध कराई गई थी।

----------------------/7/----------------------
किसान, पशुपालकों, मछली पालकों की जिन्दगी में आएगा क्रांतिकारी बदलाव

शिवपुरी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि केन्द्रीय वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमन द्वारा की गई राहत घोषणाओं से किसान, पशुपालकों, मछली पालकों आदि की जिन्दगी में क्रांतिकारी बदलाव आएगा। पीएम  किसान फंड के अंतर्गत किसानों के लिए कुल 18 हजार 700 करोड़ रूपए की घोषणा किसानों के लिए बड़ी राहत सिद्ध होगी।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कृषि भंडारण आपूर्ति आदि के लिए दी जाने वाली एक लाख करोड़ रूपए की सहायता से कृषि ढांचा मजबूत होगा तथा किसानों को अत्याधिक लाभ होगा। छोटी फूड प्रोसेसिंग इकाइयों के लिए दिए जाने वाला 10 हजार करोड़ का फंड उन्हें गति प्रदान करेगा।
मछुआरों के कल्याण के लिए प्रारंभ की जाने वाली 20 हजार करोड़ की मत्स्य संपदा योजना मछली पालन के क्षेत्र में लगभग 55 लाख लोगों को रोजगार दिलाएगी। मछुआरों की नाव का बीमा भी कराया जाएगा। डेयरी इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए 15 हजार करोड़ का फंड निजी निवेश को बढ़ावा देगा और दुग्ध उत्पादकों के लिए अत्यंत लाभदायी होगा। केन्द्र सरकार द्वारा मधुमक्खी पालकों का भी पूरा ध्यान रखा गया है। उनके लिए 500 करोड़ की योजना बनायी गई है।
केन्द्र सरकार द्वारा उद्यानिकी कृषकों को लाभ देने के लिए टमाटर, प्याज, आलू सब्जियों के लिए कोल्ड स्टोरेज पर 50 फीसदी सब्सिडी की घोषणा उनकी भंडारण क्षमता को बढ़ाएगी तथा वे अपने उत्पाद का अच्छा लाभ प्राप्त कर सकेंगे। साथ ही सप्लाई चेन को ठीक करने के लिए 500 करोड़ रूपए की घोषणा अत्यंत महत्वपूर्ण कदम है।

----------------------/8/----------------------
किसानों के हित में राज्य शासन का महत्वपूर्ण निर्णय

शिवपुरी। प्रदेश सरकार ने किसानों को लाभान्वित करने के लिये चना, मसूर एवं सरसों का उपार्जन प्रति हेक्टेयर 20 क्विंटल करने का निर्णय लिया है। मुख्यमंत्री श्री चैहान ने कहा कि सरकार किसानों को लाभान्वित करने के लिये उनके हित में निरंतर निर्णय कर रही है। किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री श्री कमल पटेल ने कहा है कि इस निर्णय से किसानों को प्रति हेक्टेयर अतिरिक्त लाभ प्राप्त होगा।
कृषि मंत्री श्री पटेल ने बताया कि इस वर्ष रबी की फसलों का बम्पर उत्पादन हुआ है। प्रति हेक्टेयर उत्पादकता में वृद्धि को देखते हुए किसानों को लाभान्वित करने के लिये सरकार ने 5 क्विंटल प्रति हेक्टेयर उपार्जन में वृद्धि की है। इससे प्रदेश में पंजीकृत 5 लाख 30 हजार किसानों को फायदा मिलेगा। चना के विक्रय से लगभग 325 करोड़ रुपये और सरसों के विक्रय से लगभग 146 करोड़ रुपये का अतिरिक्त लाभ किसानों को होगा।
बताया गया कि गत वर्ष में चने का उपार्जन नरसिंहपुर, हरदा, होशंगाबाद, छिंदवाड़ा, रायसेन, विदिशा को छोड़कर शेष जिलों में 15 क्विंटल प्रति हेक्टेयर के मान से किया गया था। इससे किसानों को 15 क्विंटल से अधिक उपज को समर्थन मूल्य से एक हजार कम रुपये में बाजार में बेचते हुए नुकसान उठाना पड़ा। उन्होंने कहा कि किसान पुत्र और किसान हितैषी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किसानों के हित में निर्णय लेते हुए एक ओर जहाँ चना का उपार्जन 5 क्विंटल प्रति हेक्टेयर बढ़ाया है, वहीं दूसरी ओर सरसों का उपार्जन 7 क्विंटल प्रति हेक्टेयर बढ़ाने का निर्णय लिया। गत वर्ष सरसों का औसत उपार्जन पूरे प्रदेश में 13 क्विंटल प्रति हेक्टेयर था।

----------------------/9/----------------------
बिजली उपभोक्ताओं के लिये व्हाट्सएप ‘चेटबोट’ की सुविधा

शिवपुरी। बिजली उपभोक्ता कम्पनी के हेल्पलाईन नम्बर- 0755-2551222 को मोबाइल में सेव कर व्हाट्सएप चेटबोट के माध्यम से अपनी शिकायत दर्ज कर उसकी स्थिति जान सकते हैं। उपभोक्ता विद्युत बिल को पीडीएफ फाइल के रूप में डाउनलोड भी कर सकते हैं। इसी तरह ऑनलाइन जमा किये गये विद्युत बिल की रसीद व्हाट्सएप चेटबोट के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिये उपभोक्ता को अपने मोबाइल से कम्पनी के उपभोक्ता सहायता फोन नम्बर-0755-2551222 पर 'Hi लिखकर व्हाट्सएप मैसेज भेजना होगा। इसके बाद उपभोक्ता को एक से 10 ऑप्शन्स की सूची का मैसेज प्राप्त होगा जिसमें:-
'1' for Register Quick Complaint for Power Supply, '2' for View LT Bill, '3' for View LT Payment Receipt, '4' for View HT Bill, '5' for View HT Payment Receipt, '6' for Register Complaint, '7' for View Existing Complaint Status, '8' for View Other Application Status, '9' for Link your mobile number to connection number and '10' for Self Reading.
इस सूची के अनुसार बिजली उपभोक्ता ऑप्शन्स नम्बर व्हाट्स एप मैसेज कर विद्युत संबंधित शिकायत दर्ज कर सकते हैं, बिल प्राप्त कर सकते हैं एवं भुगतान की पावती भी प्राप्त कर सकते हैं। व्हाट्सएप चेटबोट के माध्यम से कोई भी व्यक्ति अपने रिश्तेदार एवं मित्र के लिये भी विद्युत संबंधी शिकायत दर्ज कर सकते हैं। बिजली आपूर्ति अवरुद्ध होने पर 5 से 10 मिनिट में UPAY एप अथवा टोल-फ्री नम्बर 1912 पर सम्पर्क कर सकते हैं।
उपभोक्ता इन बातों का रखें ध्यान:-
सभी उपभोक्ता अपने घर में एमसीबी (मिनिचेयर सर्किट ब्रेकर) स्विच जरूर लगाएं, जिससे बिजली प्रवाह में कोई गड़बड़ी होने पर आपूर्ति स्वत: बंद हो जाए और जान-माल की हानि न हो। घर में अर्थिंग होना चाहिये तथा समय-समय पर जाँच करना चाहिये। बिजली उपकरण अथवा वायरिंग गीली जगह पर नहीं होना चाहिये। इसे सुरक्षित होना चाहिये। बिजली के खम्बों से पशुओं को नहीं बाँधना चाहिये। टूटे हुए बिजली के तारों को हाथ न लगायें, तत्काल बिजली कम्पनी को सूचित करें।

----------------------/10/--------------------
जिले में बाहर से आने वाले व्यक्तियों का होगा मेडिकल चेकअप

शिवपुरी। कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी द्वारा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिए हैं कि ई-पास के माध्यम से जिले में आने वाले व्यक्तियों का मेडिकल चेकअप कराया जाए। रेड जोन से जो भी व्यक्ति आ रहे हैं इसकी सूची तैयार की जाएगी। सूची में वर्णित व्यक्तियों से संपर्क एवं सामंजस्य स्थापित कर उनका सैंपल टेस्ट कराना है। शिवपुरी जिले के ऐसे नागरिक जो प्रदेश के अन्य जिलों में तथा अन्य प्रदेशो में फंसे हुए हैं उनको वापिस घर आने के लिए ई-पास जारी किए जा रहे हैं इसलिए जिले में बाहर से कई लोग आ रहे हैं। सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए बाहर से आने वालों का मेडिकल चेकअप किया जायेगा।
स्क्रीनिंग टेस्ट के कार्य हेतु जिला चिकित्सालय में एक अलग से जगह चिन्हित  की जाएगी। वहां पर डैस्क स्थापित कर एक बोर्ड लगाते हुए मैडिकल टीम द्वारा बाहर से आये व्यक्तियों एवं मजदूरों का स्क्रीनिंग टेस्ट होगा। प्रतिदिन की गई कार्यवाही की जानकारी के लिए डिप्टी कलेक्टर सुश्री कृतिका भीमावद को सहायक नोडल अधिकारी बनाया गया है।

----------------------/11/--------------------
समर्थन मूल्य पर जिले में अभी तक 1 लाख 58 हजार मीट्रिक टन से अधिक गेहूं खरीदी

शिवपुरी। जिले में इस वर्ष रबी उपार्जन में अभी तक 22 हजार 252 किसानों से 15 लाख 82 हजार 364 क्विंटल गेंहूँ की खरीदी 70 उपार्जन केन्द्रों के माध्यम से समर्थन मूल्य पर की गई है। जिले में कुल उपार्जित गेहूं में से 14 लाख 34 हजार 961 क्विंटल गेहूं का भंडारण केन्द्रों तक परिवहन भी किया जा चुका है।
कार्यालय जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक मर्या.शिवपुरी से प्राप्त जानकारी अनुसार जिले में अभी तक किसानों को उनकी उपज के बदले में 133 करोड रुपये से अधिक का भुगतान किया गया है। जिलेे में गत दिवस 6 हजार 484 क्विंटल गेंहूँ का उपार्जन किया गया। किसानों को खरीदी के लिए केन्द्र पर आने के लिए एसएमएस भेज जा रहे है। निर्धारित दिन के लिए जिन किसानों को एसएमएस जाते हैं वह केंद्र पर आकर अपना गेहूं विक्रय कर सकते हैं। अभी कोरोना वायरस महामारी से सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए केन्द्रों पर व्यवस्था की गई है। खरीदी केंद्रों पर मास्क एवं  सैनिटाइजर का उपयोग किया जा रहा है। एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए खरीदी की जा रही है।

----------------------/12/--------------------
इन क्षेत्रों में विद्युत प्रवाह बंद रहेगा आज

शिवपुरी। डाकबंगला उपकेन्द्र के 11 के.व्ही. कोर्ट एवं अस्पताल फीडर पर 17 मई 2020 को मानसून पूर्व आवश्यक रखरखाव कार्य कराये जाने के कारण विद्युत प्रवाह बंद रहेगा।
आज 11 के.व्ही. कोर्ट एवं अस्पताल फीडर के बंद रहने पर प्रातः 8 बजे से दोपहर 02 बजे तक कस्टमगेट, अस्पताल चैराहा, कोर्ट रोड़, नबाव साहब रोड, डाकबंगला रोड, महाराणा प्रताप कालोनी क्षेत्र प्रभावित रहेंगे। 

----------------------/13/--------------------
वित्त विभाग द्वारा वेतन पुनरीक्षण की तीसरी किश्त के संबंध में आदेश जारी

शिवपुरी। वित्त विभाग द्वारा मध्यप्रदेश वेतन पुनरीक्षण नियम-2017 के अंतर्गत हुए वेतन पुनरीक्षण के परिणामस्वरूप देय बकाया राशि की तृतीय एवं अंतिम किश्त का भुगतान मई-2020 में किये जाने के निर्देश जारी किये गये थे।
इस संबंध में वित्त विभाग द्वारा आज परिपत्र जारी कर कहा गया है कि कोविड-19 की आपदा के नियंत्रण के लिये अतिरिक्त वित्तीय संसाधनों की आवश्यकता के दृष्टिगत मई-2020 में देय तृतीय तथा अंतिम किश्त के भुगतान को आगामी आदेश तक के लिये स्थगित किया जाता है। आदेश में कहा गया है कि शासकीय सेवक की सेवानिवृत्ति, सेवात्याग, मृत्यु की स्थिति में तृतीय एवं अंतिम किश्त का भुगतान तत्काल किया जायेगा।

----------------------/14/--------------------
लॉक डाउन में मनमानी बिजली कटौती से जनता परेशान
-मानसून पूर्व रखरखाव के नाम पर आज कई क्षेत्रों में बिजली गायब- 

शिवपुरी। शहर में मानसून पूर्व रखरखाव को लेकर मनमाने ढंग से बिजली काटी जा रही है। लॉक डाउन में जनता पहले से ही तमाम नियम-कायदे कानून से परेशान है। इस बीच अब मनमानी बिजली कटौती से जनता की परेशानी बढ़ गई है। शनिवार को शहर के कई क्षेत्रों में बिजली की अघोषित कटौती की गई है। इस कटौती को मानसून पूर्व रखरखाव  का नाम दिया जा रहा है। शहर में शनिवार को मनमाने ढंग से कई क्षेत्रों में बिजली गायब रही। विवेकानंद कॉलोनी, कमलागंज, न्यू ब्लॉक, सर्किट हाउस रोड, अस्पताल रोड, जल मंदिर, शक्तिपुरम खुड़ा आदि क्षेत्रों के लोगों ने बताया कि सुबह 8:00 बजे से विद्युत की अघोषित कटौती की जा रही है। तेज गर्मी के बीच इस मनमानी कटौती से जनता बेहाल है। विद्युत कंपनी के अधिकारियों से बात करो तो वह कोई संतोषप्रद जवाब नहीं देते हैं। वहीं दूसरी ओर बिजली वितरण कंपनी की अधिकारियों ने बताया है कि आज डाक बंगला फीडर एवं अन्य क्षेत्रों में मानसून पूर्व आवश्यक रखरखाव को ध्यान में रखते हुए यह बिजली काटी गई है।
लॉक डाउन में जनता की मांग कम की जाए कटौती:-
परेशान जनता का कहना है कि लॉक डाउन के बीच तेज गर्मी से परेशान हैं। मानसून पूर्व रखरखाव में बिजली कटौती सुबह 8 से 12 तक की जाए तो ठीक रहेगा। लेकिन देखा यह जा रहा है कि दोपहर 2 बजे तक की बिजली काटने की बात कही जाती है जबकि वह दोपहर  3 और 4 बजे तक आती है।
आखिर कितने दिनों तक चलेगा यह रखरखाव:- 
बिजली वितरण कंपनी से जुड़े अधिकारी मनमाने ढंग से मानसून पूर्व आवश्यक रखरखाव की बात कहकर बिजली की अघोषित कटौती कर रहे हैं जबकि पिछले दो महीने से यह मानसून रखरखाव का बहाना बनाकर यह बिजली काटी जा रही है। परेशान लोगों का कहना है कि मानसून पूर्व रखरखाव का एक चार्ट जारी होना चाहिए। लगभग 10 दिन पहले यह जारी होना चाहिए जिससे लोगों को पता रहे कि किस क्षेत्र में कब कटौती होगी।मनमाने ढंग से कभी भी किसी क्षेत्र में बिजली कटौती कर दी जाती है। मानसून पूर्व रखरखाव की यह प्रक्रिया कुछ दिन की होनी चाहिए। लगातार कभी भी मनमाने ढंग से बिजली कटौती बंद होनी चाहिए।

----------------------/15/--------------------
सरपंच के हस्ताक्षर की डिवाइस लगाकर सचिव ने निकाल लिए लाखों रूपए, नहीं कराया निर्माण कार्य

पिछोर, शिवपुरी। गांव का मुखिया एक सरपंच होता है जो जनता द्वारा सीधा चुना जाता है और यह चुना हुआ जनप्रतिनिधि गांव को सुचारू रूप से चलाता है लेकिन यदि मुख्य सचिव एवं रोजगार सहायक द्वारा यदि किसी जनप्रतिनिधि की आबाज को दबा दी जाए तो ये शर्मसार करने से कम नही है।
मामला जिले के पिछोर जनपद के ग्राम आसपुर का है जहां सरपंच गुड्डी आदिवासी पत्नी तसीम आदिवासी ने अपने वरिष्ठ अधिकारियों को आवदेन देकर गुहार लगाई है कि सचिव तथा सहायक सचिव दोनों ने ही फर्जी तरीके तथा बिना मेरी सहमति से मेरी हस्ताक्षर डिवाइस लगाकर पंचायत के लाखों रुपये निकाल लिए हैं और जिस काम के लिए रुपये निकाले हैं वो कार्य भी इन सचिवों द्वारा नही कराए गए हैं जिससे सरपंच गुड्डी आदिवासी ने अपने वरिष्ठ अधिकारियों को आवेदन देकर उक्त राशि को पंचायत के कार्यों में लगाने तथा सचिवों पर कार्यवाही की मांग की है।
ग्रामीण कर चुके सीएम हेल्पलाइन पर कई बार शिकायत:-
सचिवों द्वारा किए गए कारनामों की शिकायत ग्रामीणों द्वारा कई बार सीएम हेल्पलाइन में कई गई लेकिन इन भ्रष्ट सचिवों पर कोई कार्यवाही नही हुई है। गांव के नागरिक बलराम यादव द्वारा 27 जनवरी को सीएम हेल्पलाइन में शिकायत क्रमांक 7714212 पर शिकायत की थी कि एक सी सी निर्माण हेतु तत्कालीन प्रभारी सचिव अरविंद चौहान (जो वर्तमान में रोजगार सहायक है) द्वारा 3 लाख रुपये की राशि निकाली गई है।
लेकिन उक्त निर्माण कार्य मे नही लगाई गई है जो शिकायत जांच के उपरांत सत्य पाई गई थी जिसपर तत्कालीन प्रभारी सचिव अरविंद चौहान को कारण बताओ नोटिस थमाकर तीन दिवस में कार्य प्रारम्भ करना सुनिश्चित किया था परन्तु न तो वो कार्य हुआ और न ही उस पर कोई कार्यवाही हुई।इसी प्रकार ग्राम के अन्य लोग ऋषि कुमार यादव एवं लक्ष्मण सिंह यादव भी सीएम हेल्पलाइन में सचिवों की शिकायत कर चुके हैं।
सचिव ने भी निकाली लाखों की राशि:-
सचिव अमरसिंह लोधी के आने के बाद तत्कालीन प्रभारी सचिव अरविंद सिंह चौहान से प्रभार हट कर मुख्य सचिव अमरसिंह लोधी के पास आ गया जिसके बाद सरपंच को गुमराह करके मुख्य सचिव अमरसिंह लोधी ने भी पंचायत की लाखों की राशि निकाल ली और निर्माण कार्य नही कराया इस प्रकार पूरे मामले को देखा जाए तो दोनों ही सचिवों ने सरपंच को गुमराह करके पंचायत की लाखों रुपये की राशि हड़पकर निर्माण कार्य नही कराया है। मनरेगा में चल रहे वर्षों पुराने कार्य पड़े अधूरे, हितग्राहियों से की जा रही पैसों की मांग
ग्राम पंचायत आसपुर भ्रष्टाचारों की भेंट चढ़ गई है यहां एक के बाद के भ्रष्टाचार सचिवों द्वारा किए गए हैं जिनकी पोल अब सरपंच एवं ग्रामीणों द्वारा खोल दी गई है ग्रामीणों का आरोप है कि मनरेगा में चल रहे कूप,तालाब,मेड़ बंधन सहित अन्य काम वर्षों पुराने हैं जो अधूरे पड़े हुए हैं जिनके सचिवों द्वारा मस्टर शून्य कर दिए जाते हैं और यदि हितग्राहियों द्वारा इनके संबंध में सचिवों से बात की जाती है तो हितग्राहियों से पैसों की मांग की जाती है।
लॉकडाउन जैसी स्थिति में सचिवों के रहते हैं फ़ोन बन्द:-
आपको बता दें कि लॉकडाउन जैसी गम्भीर स्थिति में लोग परेशान हैं जिससे सभी कर्मचारियों को अपने कार्यक्षेत्र में रहकर लोगों की समस्याओं का समाधान करें लेकिन ग्रामीणों का आरोप है कि आसपुर पंचायत के दोनों सचिवों के फ़ोन बन्द रहते हैं और ये लोग ग्राम पंचायत में नही आते हैं।
इनका कहना है:-
मैं तो अनपढ़ हूँ मेरी डिवाइस सचिवों ने ले रखी थी जिससे 15 लाख रुपये दोनों सचिवों ने मिलकर निकाल लिए हैं और कोई काम पंचायत में नही कराए हैं जब मैं इन पैसों के बारे में सचिवों से कहती हूँ तो वो कहते हैं कि तुम अब कोई नही हो न ही तुम्हारा कोई काम है।
-गुड्डी आदिवासी,सरपंच आसपुर-
संबधित पंचायत का कल ही मेरे पास आवेदन आया है और आज छुट्टी होने के कारण मैं संबधित की टीम गठित करके कल ही उसकी जांच करवाता हूँ।
-श्यामलाल टैंगोर, सीईओ जनपद पंचायत पिछोर-