शिवपुरी जिलेभर की आज की विशेष खबरें जो आपके लिये है खास दिनांक 07-मई-2020 - TIMESNEWS

Breaking

TIMESNEWS

सच्चाई की कलम से

Thursday, May 7, 2020

शिवपुरी जिलेभर की आज की विशेष खबरें जो आपके लिये है खास दिनांक 07-मई-2020


----------------------/1/----------------------
पुलिस द्वारा लॉकडाउन नियमों का उल्लंघन करते हुए एक सैलून संचालक पर की गई कार्यवाही

शिवपुरी। थाना प्रभारी कोतवाली निरी. बादाम सिंह यादव को सूचना मिली की कलेक्टर बंगला रोड पर ओम मेन्स पार्लर के नाम से सुबह से ही कटिंग की दुकान खुली है और वहां लॉकडाउन के दौरान सैलून में कटिंग की जाकर लोकडाउन के नियमों का उल्लंघन किया जा रहा है जिससे संक्रमण फैलेने की आशंका है। सूचना पर से थाना प्रभारी कोतवाली द्वारा वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में पुलिस टीम के साथ मुखबिर के बताये स्थान पर रवाना हुए, पुलिस टीम द्वारा मुखबिर के बताये स्थान पर जाकर देखा तो वहां ओम मेन्स पार्लर खुला मिला जहां कुछ लोग कटिंग करवाकर चले गये थे, मेन्स पार्लर संचालक को पकड़कर नाम पता पूछा तो उसने अपना नाम आशीष पुत्र ओमप्रकाश सेन उम्र 25 साल निवासी श्रीराम कोलोनी शिवपुरी का होना बताया। पार्लर पर दाड़ी, कटिंग इत्यादि से कोराना वाययरस महामारी संक्रमण का खतारा बड़ जाता है उक्त कोरोना महामारी के संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए शासन द्वारा बनाए गए और प्रख्यापित किसी नियम को जानते हुए भी उसका उल्लंघन करते हुए उक्त आरोपी को समक्ष पंचांग गिरफ्तार कर धारा 188 भादवि के तहत अपराध पंजीबद्ध किया गया।


----------------------/2/----------------------
कोरोना मरीज मिलने पर कलेक्टर ने ई-पास जारी करने वाले तीन बाबुओं को किया निलंबित

-बड़े अधिकारियों को छोड़ छोटों पर कार्यवाही को लेकर चर्चाओं का चल रहा दौर-

शिवपुरी। शिवपुरी में मिले कोरोना पॉजीटिव मरीज सोहेब खान के मिलने के बाद आनन फानन में कलेक्टर श्रीमती अनुग्रह पी. ई-पास जारी करने वाले तीन कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है। इस कार्यवाही के बाद जनचर्चाओं में यह चर्चा होने लगी है कि इस मामले में बड़े अधिकारियों को छोड़ छोटों पर कार्यवाही करना कहां का न्याय है जबकि ई-पास करने की अधिकारिक जिम्मेदारी अपर कलेक्टर व एसडीएम और स्वयं जिलाधीश को होती है फिर ऐसे में तीन अदने कर्मचारियों पर कार्यवाही करना न्याायोचित नहीं कहा जाएगा, यह चर्चा देर सायं सभी सोशल मीडिया और आमजन में चर्चा का विषय बनी रही। वहीं तीनों निलंबित कर्मचारी इस मामले में कुछ भी कहने की स्थिति में नजर नहीं आए।
यह सवाल हो रहे खड़े:-
चर्चाओं के अनुसार जो सवाल खड़े हो रहे है उसमें चर्चा है कि शिवपुरी को ग्रीन से ऑरेंज जोन में ले जाने का श्रेय जिला प्रशासन के उन अधिकारियों को जाता है जिन्होंने मध्य प्रदेश सरकार के उस आदेश की अवहेलना कर ई-पास जारी किया, जिसमें कहा गया था कि किसी भी रेड जॉन बाली जगह से ग्रीन जॉन में लाने के लिए पास किसी भी हाल में जारी न किया जाए बावजूद इसके पास जारी किया गया, जिसकी वजह से शिवपुरी ऑरेंज जॉन में पहुंची। ईपास जारी करने वाले अधिकारी ने यह पास शिवपुरी से जारी किया और इसी पास के जरिए सहारनपुर के देवबंद से दो लोग शिवपुरी आए जिनमें से एक फिलहाल कोरोना पॉजिटिव पाया गया।
क्यों सैंपल लेने के बाद घर जाने दिया:-
जनचर्चाओं में जो बात सामने आ रही है उसमें भी यह बात सामने आई है कि इस पूरे मामले में दूसरी लापरवाही स्वास्थ्य महकमे ने की वह तब, जब सहारनपुर से लौटकर आया मोहम्मद शोएब अपने दूसरे साथी के साथ जिला चिकित्सालय पहुंचा और उसने अपने बारे में पूरी जानकारी दी उसके द्वारा दी गई जानकारी को नजरअंदाज कर स्वास्थ्य महकमे ने इनका सैंपल लेकर इन्हें अपने घर जाकर होम क्वॉरेंटाइन होने की सलाह दे दी जबकि स्वास्थ्य महकमे को इन्हें जिला चिकित्सालय में ही रिपोर्ट आने तक अपने आइसोलेशन वार्ड में रखना था स्वास्थ्य महकमे ने ऐसा न कर शिवपुरी को ग्रीन से ऑरेंज में पहुंचाने में अपनी महती भूमिका अदा की।
कलेक्टर ने की कार्यवाही:-
इस पूरे मामले में उत्तरप्रदेश के देवबंद जाने के लिए जो ई-पास जारी किया गया उसमें एडीएम ऑफिस में पदस्थ करन भटनागर, अविनाश आदिवासी और विमल श्रीवास्तव सहासयक ग्रेड-3 की लापरवाही मानते हुए दोषी पाया गया है और इन्हें तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है।
-श्रीमती अनुग्रह पी. कलेक्टर, शिवपुरी-


----------------------/3/----------------------
आइसोलेशन वार्ड में सभी व्यवस्थाएं दुरुस्त रखने के निर्देश,कलेक्टर ने की स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा

शिवपुरी। जिले में एक कोरोना वायरस मरीज सामने आया है। उसे आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया है जहां पर चिकित्सकों की निगरानी में उसकी देखभाल की जा रही है। कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी और सिविल सर्जन को निर्देश दिए हैं कि आइसोलेशन वार्ड में सभी व्यवस्थाएं दुरुस्त रहें। किसी भी प्रकार की शिकायत नहीं आनी चाहिए। चिकित्सकों द्वारा समय-समय पर मरीज का चेकअप किया जाए। मरीज़ को और क्वॉरेंटाइन सेंटर में रह रहे लोगों को गुणवत्तायुक्त खाना दिया जाए। साथ ही वार्ड में साफ-सफाई का भी ध्यान रखें। बुधवार को कलेक्टर अनुग्रहा पी ने स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा की। उन्होंने सीएमएचओ,सिविल सर्जन और मेडिकल कॉलेज ही डीन के साथ चर्चा कर कोविड वार्ड में वेंटिलेटर सुविधा, बीटीएम किट, पीपीई किट की उपलब्धता आदि की जानकारी ली।बैठक में पुलिस अधीक्षक राजेश सिंह चंदेल, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गजेंद्र सिंह कंवर, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एच पी वर्मा, मेडिकल कॉलेज की डीन श्रीमती ईला गुजारिया, सीएमएचओ डॉ ए एल शर्मा, सिविल सर्जन भी उपस्थित थे।


----------------------/4/----------------------
कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक ने किया कैंटोनमेंट एरिया का निरीक्षण
शिवपुरी। जिले में कोरोना वायरस पॉजिटिव मरीज मिलने के बाद उसे आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। कोरोना पॉजिटिव युवक कोलारस का रहने वाला है। वह देवबंद उत्तर प्रदेश से वापिस आया था और वह शिवपुरी शहर में ही ठहरा था। वह शिवपुरी में जिस स्थान पर  ठहरा था, उस एरिया को कैंटोनमेंट एरिया घोषित किया गया है। कलेक्टर श्रीमती  अनुग्रहा पी  और  पुलिस अधीक्षक राजेश सिंह चंदेल ने बुधवार दोपहर प्रतिबंधित क्षेत्र का निरीक्षण किया। उन्होंने वहां लोगों से चर्चा कर कहा कि डरने की जरूरत नहीं है लेकिन सभी को सावधानी बरतना बहुत जरूरी है। कैंटोनमेंट क्षेत्र में किसी को आने- जाने की इजाजत नहीं होगी। सभी की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए यह किया गया है। सभी आवश्यकता की वस्तुएं यहाँ उपलब्ध कराई जाएंगी। उन्होंने मौके पर उपस्थित शिवपुरी एसडीएम अरविंद बाजपेई और सीएमओ को निर्देश दिए हैं कि कैंटोनमेंट एरिया में आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई में  दिक्कत ना आए। यहां जिन पटवारियों की ड्यूटी लगाई गई है उनका नंबर यहां चस्पा करें ताकि आवश्यकता होने पर लोग संपर्क कर सकें। उन्होंने कहा है कि समय निर्धारित कर पेयजल के लिए टैंकर भेजा जाए और  सब्जी किराना आदि सामान के लिए यहां ठेला बुलवाकर सामान उपलब्ध करायें। कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक ने ईदगाह, महल कॉलोनी, जवाहर कॉलोनी, इमामबाड़ा का निरीक्षण किया। कोरोना पॉजिटिव मरीज जिस वाहन से आया था उसमें जो अन्य लोग मौजूद थे उनके घरों को भी सील किया गया है और बैरिकेडिंग लगाई गई है। भ्रमण के दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गजेंद्र सिंह कंवर, एसडीओपी शिव सिंह भदौरिया, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ ए एल शर्मा, सीएमओ पटेरिया भी साथ मे थे।


----------------------/5/----------------------
सब्जी मंडी में हम्मालों और ठेले वालों का किया गया स्वास्थ्य परीक्षण
शिवपुरी। शहर में लगने वाली थोक सब्जी मंडी में बुधवार को हम्मालों और ठेले वालों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। सुबह के समय मेडिकल टीम द्वारा सब्जी मंडी में जाकर एक-एक कर सभी का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। सब्जी मंडी में सुबह के समय ठेले वाले पहुंचते हैं और मंडी से सब्जी लेने के बाद अलग अलग-अलग वार्डो में जाकर शहर में सब्जी बेचते हैं। 
कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव को देखते हुए सब्जी मंडी में आमजन का आना बंद किया गया है। लेकिन सुबह के समय सब्जी मंडी में अधिक संख्या में लोग एकत्र होते हैं। हालांकि सभी को सोशल डिस्टेंस का पालन करने, मास्क और सैनिटाइजर का उपयोग करने की सलाह दी जा रही है। लेकिन सभी की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी ने निर्देश दिए दिए थे कि सब्जी मंडी में मेडिकल टीम भेजकर सभी ठेले वालों की स्क्रीनिंग कराई जाए और उनकी जानकारी दर्ज की जाए। कल सुबह मेडिकल टीम सब्जी मंडी पहुंची और सभी का स्वास्थ्य परीक्षण किया और मास्क और सैनिटाइजर का उपयोग करने की सलाह दी। इस दौरान अपर कलेक्टर आर एस बालोदिया और एसडीएम अरविंद बाजपेई और मंडी सचिव भी वहां मौजूद थे।


----------------------/6/----------------------
ग्रामीण युवा एवं किसान भाई जैविक सब्जियों को बनाए आय का स्त्रोत

शिवपुरी। जिले के ग्रामीण युवा एवं कृषक बंधु जैविक सब्जियों को आय का स्त्रोत बना सकते है। जैविक कृषि द्वारा सब्जी उत्पादन से वे उन्नत खेती करके अधिक लाभ कमा सकते हैं।
वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख कृषि विज्ञान केन्द्र ने बताया कि छायादार नेटहाउस में गर्मी के मौसम की सब्जियों हराधनियां, पुदीना, मूली, पालक, सलाद व फल पपीता, मुनगा आदि उगाई जा सकती हैं। कद्दूवर्गीय फसलों पर चूर्णिलआसिता रोग देखा जा सकता है। नियंत्रण हेतु ग्रसित पत्तियों को अलग कर दें। 0.1 प्रतिशत कार्बेन्डाजिम के घोल को 15-20 दिनों के अंतराल पर छिड़काव करें। अमरूद की अच्छी फसल जाड़े की होती है। अतः वर्षा ऋतु की फसल को रोकने के लिए ग्रीष्म ऋतु में पानी देना बंद कर देते हैं। इससे छोटे फल पानी की कमी से गिर जाते हैं।
अनार में ‘‘अनार बटरफ्लाई‘‘ सबसे अधिक हानिकारक कीट है। यह फूल के समय से ही सक्रिय हो जाता है तथा मादा अण्डे दे देती है। जिससे छोटी-छोटी इल्लियां सक्रिय होकर छोटी अवस्था से ही फलों में छेद कर देती हैं। इसके नियंत्रण के लिए फूल अवस्था से ही क्यूनाॅलफाॅस या क्लोरपायरीफाॅस 2.5 मि.ली./लीटर पानी में स्प्रे करें या फ्लूबेंडामाइड या इमामेक्टिन बेंजोएट 5 मि.ली. या ग्राम को प्रति 15 लीटर वाले पंप में मिलाकर स्प्रे कर सकते हैं। अभी भी स्प्रे किया जा सकता है।
फल एवं सब्जियों को उपयोग से पहले कम से कम 4-5 बार अच्छी प्रकार से हल्के गरम पानी से धोना चाहिए। कोरोना महामारी (कोविड-19) से बचाव हेतु सावधानी एवं सुरक्षा उपायों- मास्क, गमछा, सामाजिक दूरी तथा समय-समय पर हाथों व कृषि औजारों को भी साबुन के पानी से धोयें अथवा सेनेटाइज करें। जिला प्रशासन के निर्देशों का अनिवार्यतः पालन करें।

----------------------/7/----------------------
इन क्षेत्रों में विद्युत प्रवाह बंद रहेगा 7 एवं 8 मई को

शिवपुरी। 33 के.व्ही. आईटीआई उपकेन्द्र के 11 के.व्ही. भेड़फार्म एवं वाणगंगा उपकेन्द्र के 11 के.व्ही. सिटी फीडर पर 7 मई तथा 11 के.व्ही. विष्णु मंदिर एवं भेड़फार्म फीडर पर 8 मई 2020 को मानसून पूर्व आवश्यक रखरखाव कार्य कराये जाने के कारण विद्युत प्रवाह बंद रहेगा। 11 के.व्ही. भेड़फार्म फीडर के बंद रहने से 7 एवं 8 मई को प्रातः 8 बजे से शाम 4 बजे तक राईन मार्केट, होटल ग्रीन व्यू, एसपीएस के पास, मास्टर कालोनी, खण्डेलवाल फैक्ट्री माधव नगर, गणेश कालोनी, आरा मशीन के पास मनियर पार्क के पास से संबंधित क्षेत्र में विद्युत प्रवाह बंद रहेगा। इसी प्रकार प्रातः 8 बजे दोपहर 1 बजे तक 7 मई को सिटी फीडर के बंद रहने से नरेन्द्र नगर, शिवानगर, सिद्धेश्वर, माधवचैक, महावीर नगर, ठण्डी सड़क क्षेत्र तथा 8 मई को विष्णु मंदिर फीडर के बंद रहने से फक्कड़ कालोनी, सिद्धेश्वर, विष्णुमंदिर आदि क्षेत्र प्रभावित रहेंगे।

----------------------/8/----------------------
सी.एम. हेल्पलाइन से साढ़े पाँच लाख से अधिक लोगों को मिली राहत


शिवपुरी। प्रदेश में कोरोना के कारण लागू लॉकडाउन में सी.एम. हेल्पलाइन नम्बर 181 आम नागरिकों और सभी जरूरतमंदों के लिये सबसे बड़ा आसरा केन्द्र बन गया है। इस नम्बर पर अब तक 5 लाख 50 हजार 752 लोगों के फोन करने पर भोजन, राशन, दवाओं, परिवहन तथा अन्य प्रकार की राहत उपलब्ध कराई गई है। सी.एम. हेल्पलाइन किसानों के लिये भी मददगार साबित हो रही है। इस पर अब तक किसानों की फसल कटाई, फसल परिवहन आदि की 1024 समस्याओं का तुरंत निराकरण सुनिश्चित किया गया है।
सी.एम. हेल्पलाइन नम्बर 181 पर अब तक भोजन संबंधी 4 लाख 46 हजार 770, परिवहन संबंधी 29 हजार 282, दवाइयों संबंधी 30 हजार 141, आवश्यक वस्तुएं जैसे दूध, सब्जी आदि संबंधी 15 हजार 096 तथा अन्य प्रकार की 29 हजार 463 समस्याओं की सूचना मिलते ही त्वरित कार्रवाई कर सहायता मुहैया कराई गई।

----------------------/9/----------------------
मानसून से पहले बाढ़ संभावित क्षेत्रों में करें पूरी तैयारी
शिवपुरी। प्रदेश में जुलाई से सितम्बर माह में मानसून के दौरान बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिये सभी इंतजामों को सुनिश्चित करने के लिये कमिश्नर और कलेक्टर को प्रमुख सचिव राजस्व द्वारा निर्देश जारी किये गये हैं।
राजस्व विभाग द्वारा जारी निर्देश में कहा है कि ऐसे गाँव की संख्या और क्षेत्र जो वर्षाकाल में बाढ़ की दृष्टि से संवेदलशील क्षेत्र है को चिन्हित किया जाये। इसके साथ ही ऐसी नदियों जिनमें बाढ़ आती है उनकों भी चिन्हित करें। वह नदिया जो प्रदेश सहित अन्य राज्यों में बहती हैं उन पर भी ध्यान रखा जाये। बड़े तालाब और नाले जिनसे बाढ़ आने की संभावना रहती है, उनको भी चिन्हित किया जाये। सभी बड़े बाँधों की सूची तैयार की जाये और जल संसाधन विभाग से इन बाँधों को बाढ़ और अतिवृष्टि को ध्यान में रखकर किये गये सुदृढ़ीकरण के कार्य और जिले में बाढ़ आने के मुख्य कारणों की जानकारी एकत्रित कर शासन को भिजवाएं। जिले में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में स्थित प्राकृतिक जलाशयों और जल निकास की नालियों की साफ-सफाई, तालाबों से अतिक्रमण हटाने और तालाब, नालों और बाँधों के तटबंधों का निरीक्षण कर उनका सुदृढ़ीकरण भी किया जाये।
बाढ़ की संभावना वाले क्षेत्रों में नागरिकों को सूचना देने के लिये व्यवस्थित प्रणाली बनाई जाये। बाढ़ और अतिवृष्टि के दौरान की जाने वाली आपातकालीन कार्यवाहियों के लिये जिला स्तरीय आपदा प्रबंधन दल का गठन करें और जिला स्तरीय आपदा प्रबंधन समिति की बैठके आयोजित की जाएं। आवश्यक सेवाएँ जैसे ऊर्जा, संचार, सड़क और पुल आदि के रख-रखाव की स्थिति की समीक्षा की जाये। सभी विभागों से बाढ़ से निपटने के लिये बनाये गये नोडल अधिकारियों के नाम, पता, दूरभाष, मोबाइल नम्बर, फैक्स और ई-मेल की जानकारी भी पहले से संकलित की जाए।

बाढ़ प्रभावित होने वाले क्षेत्रों का आकलन कर क्षेत्रों में आवश्यक वस्तुएँ दवाइयाँ आदि का पर्याप्त मात्रा में भंडारण सुनिश्चित किया जाये। इसके साथ ही बाढ़ की स्थिति में राहत शिविर लगाने की स्थिति पैदा होने पर शिविरों के लिये स्थान आदि भी पहले से तय करा लें। बाढ़ में राहत और बचाव में काम आने वाले उपकरण, नाव, मोटर बोट, रबर बोट आदि की तैयारी पहले से रखें। जिले में उपलब्ध मोटर बोट, रबर बोट आदि उपकरणों का परीक्षण कर यह सुनिश्चित करें कि वह सभी कार्यशील स्थिति में हों। बाढ़ के दौरान राहत एवं बचाव कार्य में जिनकी सेवाएँ ली जाना है उन्हें प्रशिक्षित भी करें। जिला मुख्यालय पर आपदा नियंत्रण केन्द्र की स्थापना करें जो 24 घंटे सक्रिय रहें।

----------------------/10/--------------------
मदिरा एवं भांग दुकानें प्रातः 7 बजे से शाम 7 बजे तक खुलेंगी

शिवपुरी। प्रदेश में नोवल कोरोना वायरस के अंतर्गत जोनवार वर्गीकृत जिलों में मदिरा एवं भांग की दुकानों के संचालन के निर्देश वाणिज्यिक कर विभाग द्वारा पूर्व में जारी किये गये हैं। इन निर्देशों के अंतर्गत मदिरा एवं भांग दुकान अब प्रातरू 7 बजे से शाम 7 बजे तक खुली रहेंगी।
विभाग द्वारा तय समय में किसी भी प्रकार का परिवर्तन राज्य शासन की अनुमति के बिना नहीं किया जा सकेगा। इस संबंध में वाणिज्यिक कर विभाग द्वारा आदेश जारी किये गये हैं।


----------------------/11/--------------------
मनरेगा में मिला सवा 11 लाख से अधिक श्रमिकों को काम

शिवपुरी। कोविड-19 के आकस्मिक हमले से प्रदेश के उस तबके के सामने बड़ा संकट खड़ा हो गया था, जो रोज कमाता और खाता है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में 23 मार्च 2020 को नई सरकार के गठन के साथ ही सरकार ने कोरोना से मुक्ति और जरूरतमंद हाथों को काम देने के प्रयास तेजी से प्रारंभ किए।
महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी स्कीम (म.प्र.) रोजगार संकट के इस दौर में वरदान सिद्ध हुई है। प्रदेश में पंचायत एवं ग्रामीण विकास  विभाग द्वारा  20 अप्रैल से कोरोना संक्रमित क्षेत्रों को छोड़कर शेष ग्राम पंचायतों में मनरेगा की रोजगार मूलक गतिविधियाँ की गई, जिनमें अब 22 हजार 70 ग्राम पंचायतों में एक लाख 25 हजार 61 कार्य शुरू हो गये हैं। इनमें 11 लाख 25 हजार 893 श्रमिकों को प्रतिदिन रोजगार मिलने लगा है और यह क्रम लगातार जारी है।

----------------------/12/--------------------
23 हजार महिलाएँ कर रही हैं मास्क निर्माण का कार्य

प्रदेश के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में होम मेड मास्क निर्माण की प्रक्रिया से महिलाओं को घर बैठे रोजगार प्राप्त हो रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार मुहैया कराने में म.प्र. ग्रामीण आजीविका मिशन की भी महत्वपूर्ण भूमिका रही है।  स्व-सहायता समूहों की महिलाओं को होम-मेड मास्क, सेनेटाइजर, पी.पी.टी. किट, हैंड सोप बनाने जैसी गतिविधियों से जोड़ने का अभिनव प्रयोग मध्यप्रदेश में किया गया। प्रदेश में लगभग 5 हजार  स्व-सहायता समूहों के 13 हजार महिला सदस्यों द्वारा 7 लाख से अधिक मास्क, 58 हजार लीटर से अधिक सेनेटाइजर, 9 हजार लीटर हैंड वॉश और लगभग डेढ लाख साबून का उत्पादन किया गया है। इसी प्रकार, शहरी क्षेत्रों में ‘‘जीवन-शक्ति’’ योजना के माध्यम से शहरी महिलाओं को भी मास्क निर्माण के कार्य से जोड़ा गया है। योजना के अंतर्गत 10 हजार से अधिक महिलाओं ने ऑनलाइन पंजीयन कर उत्पादन का कार्य प्रारंभ किया है। इन उत्पादों को राज्य सरकार द्वारा मार्केट में उपलब्ध कराया गया है। कोरोना के खिलाफ जंग में लगे पुलिस के जवानों, मेडिकल स्टाफ सहित मनरेगा के श्रमिकों को इन समूहों द्वारा उत्पादित सामग्री प्रदान की जा रही है, इतना ही नहीं, प्रदेश में 15 अप्रैल से शुरू हुए गेहूँ उपार्जन कार्य में नया प्रयोग करते हुए 5 जिलों में महिला स्व-सहायता समूहों को जोड़ा गया है। जिससे उन्हें रोजगार के नए अवसर मिल सके हैं।

राज्य में शुरू किए इन संगठित  प्रयासों के साथ-साथ शहरी क्षेत्रों में आमजन को होम डिलीवरी से जरूरी सामान की आपूर्ति जैसी सुविधाओं से भी जरूरतमन्दों को काम मिल सका है। पिछले 15 अप्रैल से प्रदेश में प्रारंभ किया गया गेहूँ का उपार्जन भी  रोजगार का बड़ा जरिया बना है। इसमें डेढ़ से दो लाख लोगों को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार गतिविधियों से जोड़ा जा सका है। प्रदेश में आर्थिक गतिविधियाँ प्रारंभ कर शीघ्रता से रोजगार मुहैया कराने का निर्णय भी राज्य सरकार द्वारा लिया जा चुका है। वन क्षेत्रों में तेंदूपत्ता संग्रहण और निर्माण गतिविधियाँ भी शीघ्र प्रारंभ की जा रही हैं। मध्यप्रदेश सरकार इन प्रयासों से जरूरतमंदों के दिल में यह विश्वास जगाने में सफल हो रही है कि गम्भीर संक्रमण काल में भी वह आम आदमी के साथ मजबूती से खड़ी है।