शिवपुरी जिलेभर की आज की विशेष खबरें जो आपके लिये है खास दिनांक 03.05.2020 - TIMESNEWS

Breaking

TIMESNEWS

सच्चाई की कलम से

Sunday, May 3, 2020

शिवपुरी जिलेभर की आज की विशेष खबरें जो आपके लिये है खास दिनांक 03.05.2020

----------------------/1/----------------------
पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री सिंधिया ने 2500 राशन किट उपलब्ध कराई
शिवपुरी | पूर्व केंद्रीय मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जरूरतमंद परिवारों के लिए जिले को 2500 राशन किट उपलब्ध कराई हैं। कोरोना वायरस महामारी के चलते लॉक डाउन होने के कारण रोज कमाने वाले, गरीब, आदिवासी वर्ग और जरूरतमंद लोगों को आजीविका की समस्या हो सकती है और ऐसे लोगों को हर सम्भव मदद भी की जा रही है। श्री सिंधिया द्वारा इन जरूरतमंद लोगों की खाद्यान की आवश्यकता को देखते हुए राशन किट उपलब्ध कराई हैं। उनके द्वारा प्रति विधानसभा के लिए 500 किट दी गईं हैं। शिवपुरी स्थित सिंधिया जनसंपर्क कार्यालय द्वारा कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी को यह किट उपलब्ध करा दी गयी हैं ताकि आवश्यकता पड़ने पर जरूरतमंद लोगों को राशन किट वितरित की जाए।
गरीब परिवारों को राशन का वितरण:-
शनिवार को राशन की मांग लेकर दो जरूरतमंद महिलाएं कलेक्टोरेट पहुंची। इस दौरान पुलिस अधीक्षक भी वहाँ मौजूद थे। उन महिलाओं को कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक ने राशन किट वितरित की। ये महिलाएं मनियर क्षेत्र वार्ड 13 और शिव कॉलोनी की रहने वाली हैं।

----------------------/2/----------------------
अग्रिम योद्धा के रूप में डॉ. राजपूत कोरोना की जंग में दे रहे हैं, अपना योगदान "कोरोना वारियस"
शिवपुरी | जिला चिकित्सालय में पदस्थ डॉक्टर दिनेश राजपूत की काम में सक्रियता को देखते हुए उन्हें जिला कोरोना नोडल अधिकारी की जिम्मेदारी दी गई है और इस जिम्मेदारी निर्वहन भी पूरी ईमानदारी के साथ कर रहे हैं। जिला कोरोना नोडल अधिकारी के रूप में उनका मोबाइल नंबर भी जारी किया गया है इसलिए रात को भी कई लोग अपनी समस्याएं बताने के लिए फोन करते हैं। उनका कहना है कि ऐसे समय में मेरी भी यह कोशिश रहती है कि संबंधित व्यक्ति की मदद कर सकूं।
   डॉ. राजपूत ने बताया कि वह अस्पताल में ओपीडी और अन्य वार्डों की जिम्मेदारी भी देख रहे हैं। ऐसे में अस्पताल में इलाज के लिए मरीज आते हैं और यदि किसी प्रकार की आशंका होती है तो उस मरीज को होम क्वॉरेंटाइन या आइसोलेशन की सलाह दी जाती है। उन्होंने बताया कि ग्रामीण क्षेत्र से जब लोगों के फोन आते हैं तो संबंधित के पते पर मेडिकल टीम भेजना, लोगों का चेकअप करवाना, प्रतिदिन सैंपल भिजवाने और ब्लॉक स्तर प रकाम कर रही टीम से समन्वय करते हुए प्रतिदिन की जानकारी रखना, एक नोडल अधिकारी के रूप में यह उनका रूटीन बन गया है।
   उनका कहना है कि अभी कोरोना वायरस महामारी एक ऐसी समस्या बनकर हमारे सामने आया है कि हम सभी को मिलकर ही इससे लड़ना है और बचाव करना है। इस प्रकार एक अग्रिम योद्धा के रूप में डॉ. राजपूत सक्रिय होकर काम कर रहे हैं और उनके समन्वय का ही नतीजा है कि तुरंत मरीजों की पहचान हो गई और अभी जिले में एक भी पॉजिटिव मरीज नहीं है।

----------------------/3/----------------------
ई-संजीवनी OPD का शुभारंभ, मोबाईल पर खोले यह लिंक, उपलब्ध होगें डॉक्टर घर बैठे करे डॉक्टरों से सम्पर्क
शिवपुरी | स्वास्थ्य संबंधी परामर्श के लिए ई- संंजीवनी सेेवा प्रारंभ की जा रही है। इस सुविधा के आधार पर आम नागरिक घर बैठे अपनी किसी भी तरह की बीमारी के बारे में चिकित्सक से परामर्श प्राप्त कर सकते है।
शनिवार को सीएमएचओ डॉ ए एल शर्मा ने जिला चिकित्सालय में ई- संजीवनी ओपीडी का शुभारंभ किया। इस दौरान सिविल सर्जन भी उपस्थित थे।
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि नागरिकों को अपने मोबाइल नम्बर पर https://esanjeevaniopd.in   लिंक पर क्लिक करने पर अपनी जानकारी भरनी होगी और जब उसे सबमिट करेंगे तो एक नम्बर प्राप्त होगा। उस नम्बर के आधार पर समय के अनुसार चिकित्सक से सीधे संपर्क कर सकेंगे। इसके उपयोग हेतु प्रातः 09 बजे से दोपहर 01 बजे तक का समय निर्धारित किया गया है। जिसका उपयोग कर आम नागरिक बिना अस्पताल पहुंचे, पूर्ण परामर्श प्राप्त कर सकेगा। इस तरह से हम अनावश्यक रूप से बाहर नहीं निकलेंगे और कोरोना संक्रमण से भी बचेंगे। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा अपील की जा रही है कि उक्त सुविधा का उपयोग करें।

----------------------/4/----------------------
मुख्यमंत्री सहायता कोष में पशुपालन विभाग ने जमा कराई 3 लाख 17 हजार से अधिक की राशि
शिवपुरी | जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए शासकीय कर्मचारियों द्वारा एक दिन का वेतन मुख्यमंत्री सहायता कोष में दिया जा रहा है। इसी क्रम में पशुपालन विभाग में कार्यरत अधिकारी एवं कर्मचारियों द्वारा माह अप्रैल के वेतन से एक दिवस का वेतन मुख्यमंत्री सहायता कोष में दिया गया है। इस प्रकार कुल 3 लाख 17 हजार 739 रूपए मुख्यमंत्री सहायता कोष में जमा कराए है।

----------------------/5/----------------------
इन क्षेत्रों में विद्युत प्रवाह बंद रहेगा आज एवं कल 04 मई को

शिवपुरी | 33 के.व्ही. आईटीआई उपकेन्द्र के लुधावली, इण्ड्रस्टियल एरिया गुना नाका, 33 के.ही. कोलारस फीडर पर 03 मई तथा 11 के.व्ही.झांसी तिराहा एवं 33 के.व्ही.बलाजीधाम, माढ़ा एवं सुभाषपुरा फीडर पर 04 मई 2020 को मानसून पूर्व आवश्यक रखरखाव कार्य कराये जाने के कारण विद्युत प्रवाह बंद रहेगा।
    आज लुधावली, इण्ड्रस्टियल एरिया गुना नाका फीडरों के बंद रहने से प्रातः 08 बजे से शाम 04 बजे तक लुधावली, गऊशाला एवं इण्ड्रस्टियल एरिया गुना नाका क्षेत्र तथा प्रातः 09 बजे से शाम 05 बजे तक 33/11 के.व्ही.उपकेन्द्र कोलारस शहर से जुड़े समस्त क्षेत्र प्रभावित रहेंगे।
   इसी प्रकार 04 मई  को प्रातः 08 बजे से शाम 04 बजे तक राजेश्वरी रोड, सावरकर कालोनी, महल कालोनी, कृष्णपुरम, तुलसीनगर, खेडापति कालोनी एवं आदर्श नगर से संबंधित क्षेत्र, प्रातः 09 बजे से शाम 05 बजे तक 33/11 के.व्ही.उपकेन्द्र माढ़ा, अकाझिरी, रन्नौद, सुभाषपुरा एवं धौलागढ़ से जुड़े क्षेत्र, प्रातः 08 बजे से दोपहर 02 तक सभी निकलने वाले 11 के.व्ही.फीडर एसएएफ कत्थामिल एवं हाउसिंग बोर्ड क्षेत्र समस्त क्षेत्र प्रभावित रहेंगे।

----------------------/6/----------------------
कोरोना महामारी में भी सरकार की प्राथमिकता रही किसानों और गरीबों की मदद
शिवपुरी | प्रदेश में किसानों, श्रमिकों, बेसहारा लोगों, गरीबों बुजुर्गों और जरूरतमंदों की मदद करना सदैव मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की प्राथमिकता में रहा है। कोरोना महामारी से लड़ते हुए भी श्री चौहान अपनी यह प्राथमिकता नहीं भूले। पिछले लगभग डेढ़ माह में राज्य सरकार द्वारा 6526 करोड़ रुपये की राशि प्रदेश के इन सभी जरूरतमंदों के खातों में विभिन्न योजनाओं के माध्यम से पहुँचाई गई है। मुख्यमंत्री ने इन सभी जरूरतमंदों की योजनाओं के क्रियान्वयन में पिछले एक साल से प्रदेश की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है, राज्य का खजाना खाली है, जैसी कही जाने वाली बातों को निर्मूल साबित कर दिया है। साथ ही, यह भी प्रमाणित कर दिया है कि किसान और गरीब सरकार की पहली प्राथमिकता हैं और उनकी मदद से कोई बाधा उन्हें रोक नही सकती।
राज्य सरकार ने 15 लाख किसानों को फसल बीमा की 2990 करोड़ रुपये की राशि उनके खातों में ट्रांसफर की है। किसानों की फसल को भी समर्थन मूल्य पर खरीदने की व्यवस्था की गई है। खरीदी शुरू होते ही शुरू के 15 दिन में 5 लाख 65 हजार किसानों से 28 लाख मीट्रिक टन से अधिक गेहूँ खरीदा गया है। इसके लिये किसानों को अब तक लगभग 2000 करोड़ रुपये भुगतान भी कर दिया गया है।
लॉकडाउन में सरकार ने संनिर्माण कर्मकार मंडल में पंजीकृत 8 लाख 85 हजार मजदूरों के खाते में प्रारंभ एक-एक हजार रुपये और उसके बाद में फिर से एक-एक हजार रुपये की अतिरिक्त सहायता ऑनलाइन भेजी है। इस प्रकार, निर्माण कार्यों से जुड़े संनिर्माण कर्मकार मंडल में इन सभी मजदूरों के खाते में 177 करोड़ 30 लाख रूपये की राशि ट्रांसफर कर दी गई है।
कोरोना संक्रमण के इस दौर में राज्य के असंगठित क्षेत्र के मजदूर जो प्रदेश से बाहर अन्य राज्यों में कार्य करने के समय लॉकडाउन की घोषणा के बाद वहाँ पर फँस गये हैं। ऐसे सभी 20,000 श्रमिकों के खाते में 1000 रुपये के मान से कुल दो करोड़ रुपये ट्रांसफर किये गये हैं। प्रदेश में अन्य 22 राज्यों के फँसे 7000 प्रवासी श्रमिकों को भी उनकी तात्कालिक जरूरतों को पूरा करने के लिये एक हजार रुपये के मान से सहायता राशि पहुँचाई गई है।
प्रदेश सरकार द्वारा महामारी की विपत्ति में बेसहारा, बुजुर्गों आदि को दी जाने वाली सामाजिक सुरक्षा पेंशन की 562 करोड़ रुपये की राशि 46 लाख हितग्राहियों के खातों में भेजी गई है। इसमें सामाजिक सुरक्षा पेंशन, विधवा पेंशन, वृद्धावस्था पेंशन और निराश्रित पेंशन आदि का अगले दो माह का भुगतान किया गया है।
राज्य सरकार द्वारा प्रदेश की शासकीय प्राथमिक शालाओं में अध्ययनरत 60 लाख 81 हजार बच्चों और माध्यमिक शालाओं में अध्ययनरत 26 लाख 68 हजार बच्चों के अभिभावकों के खाते में मध्यान्ह भोजन योजना के 117 करोड़ और योजना मे कार्यरत 2 लाख 10 हजार रसोइयों के खाते में 42 करोड़ 3 लाख 8 हजार रुपये ट्रांसफर किये गये है। इसी तरह, विभिन्न छात्रवृत्ति योजनाओं में 52 लाख छात्र-छात्राओं के खातों में 430 करोड़ रुपये की राशि का भुगतान भी कर दिया गया है।
राज्य सरकार द्वारा निराश्रित गौ-वंश के लिये 599 गौ-शालाओं में गेहूँ, चना, भूसा की आपूर्ति के लिए 29 करोड़ 85 लाख रूपये दिए गए हैं। सरकार की इस पहल से प्रदेश के 66 हजार गौ-वंश को गौ-शालाओं के माध्यम से पर्याप्त भूसा उपलब्ध हो सकेगा।
लॉकडाउन की अवधि में जिलों में आवश्यक व्यवस्थाओं को सुनिश्चित करने के लिये सरकार द्वारा भी राशि उपलब्ध कराई गई है। प्रत्येक जिले को स्थानीय आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए 2-2 करोड़ रुपये की राशि इस काम के लिये दी गई है। यह राशि राहत शिविरों और भोजन व्यवस्था आदि के लिये दी गई है। इसके अतिरिक्त, लॉकडाउन में आम आदमी को किसी भी प्रकार की कठिनाई नहीं हो, इसके लिए प्रशासन को आकस्मिक व्यवस्थाएँ सुनिश्चित करने के लिये प्रत्येक जिले को एक-एक करोड़ रुपये के हिसाब से कुल 156 करोड़ रूपये दिए गए हैं।
कोरोना महामारी में लॉकडाउन के दौरान ग्रामीण क्षेत्रों में प्रवासी श्रमिकों, निराश्रितों और असहायों के लिये भोजन, आश्रय आदि की व्यवस्था के लिए 70 करोड़ रुपये जारी किये गये हैं। राज्य सरकार द्वारा प्रदेश की सहरिया, बैगा एवं भारिया अति पिछड़ी जनजातियों के लोगों के बैंक खातों में भी दो माह की अग्रिम सहायता राशि समय पर पहुँचा दी गई हैं। राज्य सरकार हर गरीब व्यक्ति की मदद कर रही है।

----------------------/7/----------------------
माध्यमिक शिक्षा मंडल के निर्देशानुसार करें मूल्यांकन, कलेक्टर के निर्देश
-लापरवाही बरतने वाले शिक्षकों के विरूद्ध होगी कार्यवाही-
शिवपुरी | माध्यमिक शिक्षा मण्डल भोपाल द्वारा आयोजित हाईस्कूल एवं हायर सेकेण्डरी परीक्षा सत्र 2020 की अमूल्यांकित उत्तरपुस्तिका का मूल्यांकन माध्यमिक शिक्षा मण्डल  के दिशा निर्देशों के अनुरूप गृह मूल्यांकन किया जा रहा है। कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी ने मूल्यांकन कार्य में लापरवाही बरतने वाले शिक्षकों के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही करने के निर्देश दिए है।
   समस्त विकासखण्डों में किए जा रहे मूल्यांकन के निरीक्षण हेतु विकासखण्ड स्तरीय एवं जिला स्तरीय निरीक्षण दलों का गठन किया गया है। इन दलों द्वारा निरीक्षण कर मूल्यांकन प्रक्रिया का जायजा लिया जा रहा है। शनिवार को जिला शिक्षा अधिकारी श्री अजय कटियार ने पोहरी एवं खनियाधाना क्षेत्र में मूल्यांकन कार्य का जायजा लिया। उन्होंने सभी मूल्यांकन कर्ताओं को निर्देश दिए हैं कि मूल्यांकन करते समय उत्तरपुस्तिकाओं के पास छोटे बच्चों को खडा न करें। साथ ही उसी टेबिल पर जिस पर अमूल्यांकित उत्तरपुस्तिकाएं रखी है पानी का गिलास इत्यादि सामग्री न रखें, जिससे उत्तरपुस्तिकाओं के क्षतिग्रस्त होने की संभावना बन सकती है। इससे मूल्यांकन प्रभावित हो सकता है।
   जिनके द्वारा लापरवाही बरती जा रही है उन  मूल्यांकनकर्ताओं को कारण बताओ नोटिस जारी किया जा रहा है। ऐसा ही एक मामला पोहरी विकासखण्ड के अंतर्गत शासकीय कन्या हाई स्कूल पोहरी की अध्यापक श्रीमती निशा लक्ष्मी सवालखिया का है। निरीक्षण दल द्वारा उपलब्ध फोटोग्राफ को देखने पर सामने आया है कि मूल्यांकन के दौरान छोटे बच्चे को पास में खड़ा किया गया है। बच्चों द्वारा उत्तरपुस्तिका को क्षतिग्रस्त किया जा सकता है। अतः श्रीमती निशा लक्ष्मी सवालखिया, अध्यापक को लापरवाही पूवर्क मूल्यांकन करने पर कारण बताओ सूचना पत्र जारी किया गया है।
  सभी मूल्यांकनकर्ताओं को निर्देश दिए गए हैं कि मूल्यांकन बोर्ड के निर्देशानुसार किया जाए, उत्तरपुस्तिकाओं को सुरक्षित ढंग से अलमारी में ताले में रखा जाए तथा जिस कक्ष में मूल्यांकन का कार्य सम्पन्न किया जा रहा है, उस कक्ष में छोटे बच्चे अथवा अन्य कोई व्यक्ति उपस्थित न हो, साथ ही उत्तरपुस्तिका के अनुक्रमांक पर लगा हुआ होलोक्राफ्ट स्टीकर किसी भी स्थिति में न हटाया जाए। मूल्यांकन की गोपनीयता पूर्णरूप से बनी रहे, यह सुनिश्चित किया जाए।

----------------------/8/----------------------
कैंसर पीड़ितों को भी ई-पास जारी नहीं कर रहा शिवपुरी का प्रशासन, ग्रीन जॉन में आने के बाद भी ई-पास को लेकर जनता परेशान
-कलेक्ट्रेट में जुट रही है परेशान लोगों की भीड़, कोलारस विधायक ने ई-पास जारी करने वाले डिप्टी कलेक्टर को हटाने की मांग की-
शिवपुरी। ग्रीन जॉन में आने के बाद भी शिवपुरी में जिला प्रशासन द्वारा बाहरी क्षेत्रों व अन्य प्रदेशों में फंसे और गंभीर मरीजों को इलाज के लिए ई-पास बनाने में आनाकानी की जा रही है। शिवपुरी कलेक्टर कार्यालय में हालत यह है कि यहां पर कैंसर पीड़ित मरीजों को भी ई- पास नहीं बनाए जा रहे। कलेक्टर कार्यालय में ई-पास बनवाने के लिए बड़ी संख्या में लोग जुट रहे हैं और यहां पदस्थ डिप्टी कलेक्टर अंकुर गुप्ता की कार्यप्रणाली के कारण लोगों को परेशान होना पड़ रहा है। ई-पास को लेकर परेशान हो रहे लोगों की दिक्कतों को देखते हुए कोलारस विधायक वीरेंद्र रघुवंशी ने तो शिवपुरी कलेक्टर अनुग्रहा पी से डिप्टी कलेक्टर अंकुर गुप्ता से ई-पास जारी करने का प्रभार हटाने की मांग करते हुए किसी वरिष्ठ अधिकारी को इसका का कार्य सौंपने की मांग की है।
विधायक वीरेंद्र रघुवंशी के अलावा परेशान अन्य लोगों ने भी कलेक्टर अनुग्रह पी से मांग की है कि ई-पास जारी करने की व्यवस्था में सुधार किया जाए और यहां पर किसी वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों की देखरेख में ई-पास की व्यवस्था की जाए।
कैंसर पीड़ित को भी जारी नहीं किया ई-पास:-
कलेक्टर कार्यालय में आए ठकुरपुरा निवासी त्रिलोक सिंह यादव ने बताया कि उनके बड़े भाई को कैंसर है और उन्हें ग्वालियर में सिकाई कराने के लिए जाना है लेकिन दो बार आवेदन करने के बाद भी उन्हें ई-पास जारी नहीं किया जा रहा। तीन दिन से वह कलेक्टर कार्यालय के चक्कर लगा रहे हैं। इसी तरह बंटी राठौर ने बताया कि उनके साले का 11 साल का बालक शिवपुरी में फंस गया है और उसे ललितपुर जाना है। एक महीने से वह यहां शिवपुरी में है लेकिन ललितपुर जाने के लिए ई-पास नहीं बनाया जा रहा।
इसी तरह महिला उमा ने बताया कि उनकी भाभी शिवपुरी में फंस गई है और उन्हें अपनी भाभी को लहार छोड़ने के लिए जाना है लेकिन ई-पास नहीं बनाया जा रहा है। अधिकारियों ने जानबूझकर उनका आवेदन तीन बार रिजेक्ट कर दिया है।
एक विकलांग कृष्णा योगी ने बताया कि उनकी गर्भवती पत्नी ग्वालियर में मायके में फ़ंस गई है और डिलीवरी पीरियड है। वह अपनी पत्नी के पास ग्वालियर जाना चाहता है लेकिन उसे ई- पास जारी नहीं किया जा रहा है।
जानबूझकर तमाम खामियां बताकर आवेदन किए जा रहे हैं रिजेक्ट:-
इसी तरह सैकड़ों लोग प्रतिदिन कलेक्टर कार्यालय के चक्कर लगा रहे हैं। इनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। यहां पर ही ई-पास जारी करने के लिए डिप्टी कलेक्टर अंकुर गुप्ता को जिम्मेदारी दी गई है लेकिन पूर्व में जैसा एसडीएम कार्यालय में जो चल रहा था वैसा ही हाल इस कार्यालय का है। यहां ई-पास जारी करने में आनाकानी की जाती है। आवेदनों में तमाम खामियां बताकर उन्हें रिजेक्ट कर दिया जाता है जबकि ग्रीन जॉन से ग्रीन जॉन जाने और ऑरेंज जॉन जाने में केंद्र व राज्य सरकार ने साफ तौर पर गाइडलाइन जारी कर दी है जिसमें कोई दिक्कत नहीं है। फिर भी आवेदनों में खामियां निकालकर उन्हें रिजेक्ट किया जा रहा है।
कोलारस विधायक की मांग किसी समझदार वरिष्ठ अधिकारी को सौंपी जाए ई-पास जारी करने की व्यवस्था:-
कोलारस से भाजपा विधायक वीरेंद्र रघुवंशी ने ई-पास जारी करने के लिए पदस्थ डिप्टी कलेक्टर अंकुर गुप्ता को हटाने की मांग करते हुए कहा कि उन्होंने स्वयं कलेक्टर से मिलकर ई-पास जारी करने की व्यवस्था में सुधार की मांग की है। विधायक वीरेंद्र रघुवंशी ने बताया कि यहां पर हमारी सरकार मजदूर और ग्रामीणों को बाहर से बसों के जरिए शिवपुरी लाने का प्रयास कर रही है। ऐसे में ग्रीन जॉन से ग्रीन जॉन और ऑरेंज जॉन से आने-जाने की व्यवस्था के लिए ई-पास जारी करने में अधिकारी आनाकानी कर रहे हैं। उन्होंने कलेक्टर से इस व्यवस्था में सुधार की मांग की है। इसके अलावा परेशान लोगों ने कलेक्टर अनुग्रहा पी से मांग की है कि ई पास जारी करने की व्यवस्था को सुधारा जाए।

----------------------/9/----------------------
शिवपुरी में बुजुर्ग को अस्पताल ले जाने के लिए परिजनों ने माँगी मदद, डायल -100 एफ़.आर.व्ही. ने अस्पताल छोड़ा
शिवपुरी। दिनाँक 02 मई 2020 को राज्य स्तरीय पुलिस कंट्रोल रूम डायल-100 भोपाल में जिला शिवपुरी के थाना पिछोर क्षेत्र के ग्राम चिरोना से एक महिला कॉलर द्वारा सूचना दी गई कि उसके 55 वर्षीय पिता की तबीयत बहुत ज्यादा ख़राब है । लॉकडाउन के कारण उन्हें अस्पताल ले जाने का साधन उपलब्ध नहीं हो पा रहा है । सूचना पर राज्य स्तरीय पुलिस कंट्रोल रूम डायल-100 भोपाल द्वारा पुलिस कंट्रोल रूम शिवपुरी को अवगत कराया जिस पर से पुलिस कंट्रोल रूम शिवपुरी द्वारा  जिले के थाना पिछोर क्षेत्र में तैनात डायल-100 एफ.आर.व्ही. को घटना का विवरण देकर रवाना किया । डायल-100 एफ़.आर.व्ही. स्टाफ आरक्षक राजेश तिवारी और चालक शिवम शर्मा द्वारा मौके पर पहुँचकर वृद्ध व्यक्ति को डायल-100  वाहन से ले जाकर तत्काल उपचार हेतु शासकीय अस्पताल पिछोर में भर्ती कराया गया । बच्चे के परिजनों द्वारा मध्यप्रदेश पुलिस की डायल-100 सेवा का आभार व्यक्त किया।

----------------------/10/--------------------
19 वर्षीय सोनम ने गटका जहर, मौत, ससुराल जनों पर जहर खिलाने का आरोप
शिवपुरी। खबर जिले के देहात थाना क्षेत्र के रायश्री गांव से आ रही है। जहां एक नवविवाहिता ने अज्ञात कारणों के चलते जहर खा लिया। तत्काल परिजन महिला को लेकर सिद्धि विनायक अस्पताल में लेकर पहुंचे। जहां डॉक्टरों ने पुलिस को सूचना दिए बिना उक्त महिला को वहां भर्ती कर लिया। जहां महिला की उपचार के दौरान मौत हो गई।
जानकारी के अनुसार सोनम पत्नि हृदेश ओझा उम्र 19 साल निवासी गोदरी की शादी 1 साल पहले रायश्री निवासी हृदेश ओझा के साथ हुई थी। शादी के बाद से ससुराल बालों से वह प्रताणित थी। बीते रोज अज्ञात कारणों के चलते उक्त महिला ने अपने ही ससुराल में जहरीले पदार्थ का सेबन कर लिया।
मतिका के जीजा हरीबल्लभ का आरोप है कि सोनम ने मरने से पहले बताया था कि उसे ससुरालजनों ने जहर दे दिया था। हांलाकि प्रायवेट अस्पताल में मौेत होने के चलते उक्त महिला की लाश का आज पीएम नहीं हो सका।

----------------------/11/--------------------
लॉकडाउन 3.0: नए आदेश की टकटकी लगाए देख रहा हैं शहर, क्या खुलेगा और क्या नही
शिवपुरी। देशभर में कोरोना महामारी के प्रकोप के कारण तीसरे चरण का लॉकडाउन घोषित कर दिया गया है। हालांकि लॉकडाउन फेज 2 अभी 3 मई तक है । केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने तीसरे चरण के लॉकडाउन के लिए नई गाईडलाइन जारी कर दी है। लेकिन प्रदेश में इसका स्वरूप कैसा होगा, यह अभी स्पष्ट नहीं है।
आज या कल में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इसकी घोषणा कर सकते हैं। कोरोना महामारी के नियंत्रण के कारण शिवपुरी जिला ग्रीन जोन में है। यह वह जिला है, जहां पिछले एक सवा माह से कोरोना का कोई नया पॉजिटिव केस सामने नहीं आया है। 2 पॉजिटिव केेस निगेटिव हो चुके हैं और वे स्वस्थ होकर अपने घर लौट चुके हैं।
इसी कारण फेज 2 में भी शिवपुरी जिले में कुछ सुविधाएं और रियायते दी गई हैं। जिनका जारी रहना फेज 3 में निश्चित माना जा रहा है और इसके अलावा अन्य रियायते तथा सुविधाएं मिलने की संभावनाएं हैं। आर्थिक गतिविधियां शर्तो के साथ शुरू हो सकती हैं। लेकिन ट्रेन और हवाई सेवा पूर्व की तरह बंद रहेंगी। बस सेवाओं में सशर्त छूट मिलने की संभावना है।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा और अन्य मंत्रियों के साथ प्रदेश में रेड जोन के 9 जिले, औरेंज जोन के 19 और ग्रीन जोन के 24 जिलों को खोलने पर चर्चा की। इन जिलों के प्रशासनिक अधिकारियों से फीडबैक लिया। अधिकारियों ने छूट की संभावनाओं को प्रस्तावित किया। आज होने वाले बैठक में इस योजना को अंतिम रूप दिया जा सकता है।
बैठक में तय हुआ कि ग्रीन जोन के सभी जिलों को भीतर से पूरी तरह से खोल दिया जाएगा। जबकि औरेंज जोन में छूट बढ़ाई जाएगी। रेड जोन के भोपाल इंदौर समेत अन्य जिलों में शादी समारोह की छूट मिल सकती है। इनमें दोनों पक्ष के 5 से 10 परिजन  ही शामिल होंगे। कंटेनमेंट एरियों को छोड़कर बांकी मय इलेक्ट्रोनिक सामान की होम डिलेवरी की जा सकेगी।
शिवपुरी जिला ग्रीन जोन में होने के कारण सभी बड़ी आर्थिक गतिविधियों को छूट दी जा सकती है। दफ्तर और फैक्ट्रियों को भी शर्ता के साथ शुरू करने की इजाजत मिल सकती है। दफ्तरों और फैक्ट्रियों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन होगा। कार्यस्थल को समय-समय पर सेनिटाईज करना होगा।
ग्रामीण क्षेत्रों में सभी औद्योगिक और निर्माण गतिविधियों जिनमें मनरेगा कार्य, खाद्य प्रसंसकरण, ईकाइयां और ईट भट्टे शामिल हैं उन्हें छूट दी गई। लेकिन सभी तरह के शैक्षणिक संस्थान बंद रहेंगे। किसी भी स्कूल कॉलेज या कोचिंग संस्थानों में कोई संचालन नहीं होगा। फिलहाल होटल, रेस्तरां, सिनेमा हॉल, शॉपिंग मोल, स्पोट्र्स, कॉम्पलेक्स, जिम और अन्य फिटनेस सेंटर की सेवाएं फिलहाल बंद रहेंगी। हर तरह के सार्वजनिक कार्यक्रमों पर प्रतिबंध जारी रहेगा।
सामाजिक, राजनैतिक, सांस्कृतिक और अन्य प्रकार की सभाओं के साथ-साथ धार्मिक  स्थल बंद रहेंगे। विशेष परिस्थितियों में और गृह मंत्रालय की अनुमति पर ही हवाई, रेल और सड़क मार्ग से जाने की अनुमति दी जाएगी। सभी गैर जरूरी गतिविधियों के लिए व्यक्तियों की आवाजाही शाम 7 बजे से सुबह 7 बजे के बीच पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगी। स्थानीय प्रशासन क्षेत्र में कफ्र्यू की स्थिति बनाई रखी जाएगी।
शिवपुरी के ग्रीन जोन में आने के बाद भी 65 साल से ऊपर, अस्वस्थ्य लोगों, गर्भवती महिलाएं और 10 साल से कम उम्र के बच्चों को बाहर निकलने की अनुमति नहीं हैं। शराब की बिक्री, मोल्स और मार्केटिंग कॉम्पलेक्स नहीं की जा सकेगी। हालांकि एकल दुकानों पर शराब की बिक्री होगी। शराब, पान मसाला, गुटखा और तंबाकू का सार्वजनिक जगहों पर सेवन नहीं किया जा सकेगा। रिक्शा, ऑटो रिक्शा, टैक्सी, कैब, नाई की दुकानें, स्पा और सैलून सब बंद रहेंगे।
ग्रीन जोन में चलेंगी बसें
हालांकि ग्रीन  जोन  सीमित गतिविधियों को छोड़कर सभी गतिविधियों की अनुमति दी गई है। इन क्षेत्रों में बस में 50 प्रतिशत सवारी तक ही बैठ सकेंगे। 50 फीसदी कर्मचारी काम कर सकेंगे। सभी माल वाहक वाहनों के यातायात की अनुमति दी गई है। औरेंज जोन में टैक्सी और कैब एग्रीगेटर्स को एक ड्रायवर और एक यात्री के साथ अनुमति दी गई है। चार पाहिया वाहनों में अधिकतम दो यात्री और दो पहिया पर दो यात्री चल सकेंगे।