कोरोना डायरी (भाग पांच):- आग कितनी ही खौफनाक सही उसकी लपटों की उम्र थोड़ी है - TIMESNEWS

Breaking

TIMESNEWS

सच्चाई की कलम से

Friday, April 24, 2020

कोरोना डायरी (भाग पांच):- आग कितनी ही खौफनाक सही उसकी लपटों की उम्र थोड़ी है

साभार:- संतोष मानव भोपाल
करैरा (शिवपुरी)। कोरोना वायरस थोड़े दिनों का अनचाहा मेहमान है। जाएगा यह भी, अपने पूर्ववर्तियों की तरह। कौन वायरस कितने दिन टिका है? या तो यह खुद गायब हो जाता है या इससे जनित रोगों के लिए दवा/वैक्सीन इजाद कर ली जाती है। जीका, मारबर्ग, इबोला, सार्स या स्वाइनफ्लू अब कहां है। एक समय स्वाइन फ्लू ने अकेले भारत में ग्यारह सौ लोगों की जान ली थी। जैसे बाकी गए, कोरोना भी जाएगा। लेकिन फिलहाल तो इसने कोहराम मचा रखा है । कल एक शुभचिंतक ने फोन पर जो बताया वह सुनिए- अब तो खांसने या छींकने में भी डर लगता है कि  पड़ोसी कहीं अस्पताल या पुलिस वालों को फोन न कर दे। ऐसे ही एक सज्जन ने बताया कि खाने-पीने में भी भय है। यानी इतना डर-भय पूर्व के विषाणुओं ने नहीं दिया था। कोरोना कुछ ज्यादा ही डरावना और जहरीला है। खबरें भी डराती हैं-एक न्यूज चैनल की खबर है कि पानी में भी कोरोना के अंश मिले हैं। पेरिस की सेन नदी से लिए गए सैम्पल में। खबर यह भी है कि बिल्ली तक में कोरोना पहुंच गया है। फिर बचा क्या?  नोट लेने में भी लोग कतरा रहे हैं। बीच में अखबार तक बंद कराने लगे थे लोग। डर की और भी वजहें हैं। एक तो यह कि हजारों कोरोना पाजीटिव ऐसे भी हैं, जिनमें कोरोना के लक्षण भी नहीं पाए गए थे। न सर्दी, न खांसी, न बुखार, न पेट दर्द, न बदन ऐंठना, न गला सूखना पर निकले कोरोना पाजीटिव। ऐसे हालात में डरना लाजिमी है। किसे और कैसे कहें डरपोक? एक अखबार ने चौंकाने वाली खबरें छापी हैं। एक छात्रा ने उस अखबार को बताया कि वह बीस दिनों से घर में थी। एक दिन कुछ मिनटों के लिए दवा दुकान गई थी, पर निकली कोरोना पाजीटिव। है न हैरत की बात? कोरोना की हिमाकत देखिए। यह राष्ट्रपति भवन और लोकसभा सचिवालय तक दस्तक दे चुका है। जहाँ सब चकाचक, सारी सावधानी, वहां कैसे कोरोना? तो  फिर रास्ता क्या है? कैसे चलेगी जिंदगी?  जिंदगी चलेगी। यह कभी रुकती नहीं। हमें कुछ हिदायतों, कुछ सावधानी के साथ जीना होगा।  बहुत जी धबराए, तो मिर्जा गालिब का शेर याद कीजिए-गुजर जाएगा यह दौर भी गालिब। जरा इत्तमीनान तो रख । खुशी ही नहीं ठहरी, तो गम की क्या औकात है।