शिवपुरी जिले की विशेष जानकारी पूर्ण खबरें जो आपके लिये है खास दिनांक 30.04.2020 - TIMESNEWS

Breaking

TIMESNEWS

सच्चाई की कलम से

Thursday, April 30, 2020

शिवपुरी जिले की विशेष जानकारी पूर्ण खबरें जो आपके लिये है खास दिनांक 30.04.2020

--------------------/1/------------------------

वैश्विक महामारी से बचाव में आज भी कारगर है हजारों वर्ष पुरानी आयुर्वेदिक औषधियाँ
शिवपुरी। भारतीय चिकित्सा पद्धति में रोग प्रतिरोधक क्षमता के प्रभावी और प्रमाणित उपायों को देखते हुए प्रदेश में अब तक लगभग 70 लाख लोगों को त्रिकटु चूर्ण (काढ़ा पाउडर), संशमनी वटी, अणु तेल और आरोग्य कषायम निःशुल्क वितरित किए जा चुके हैं।
लघु वनोपज प्र-संस्करण एवं अनुसंधान केन्द्र के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एल.एस. रावत ने बताया कि आयुष विभाग से अब तक 22 करोड़ 23 लाख रूपये से अधिक के ऑर्डर मिल चुके हैं। ऑर्डर की आपूर्ति के लिए निरंतर कार्य किया जा रहा है। पहली बार 3 और 8 अप्रैल 2020 को मिले ऑर्डर के परिप्रेक्ष्य में एमएफपी पार्क अब तक छह करोड़ 50 लाख 29 हजार 200 रूपये की औषधियों की सप्लाई आयुष विभाग को कर चुका है। इसमें एक लाख 23 हजार त्रिकटु चूर्ण (500 ग्राम), अणु तेल दो लाख 10 हजार (50 एम.एल.), 34 हजार संशमनी वटी (500 ग्राम) शामिल है। शेष औषधि सप्लाई के प्रयास भी युद्ध स्तर पर जारी हैं। हाल ही में आयुष विभाग ने 12 करोड़ 54 लाख 29 हजार रूपये मूल्य के 25 हजार नग त्रिकुट चूर्ण और 12 नग आरोग्य कषायम पूर्ति के आदेश भी दिए हैं।
पं. खुशीलाल शर्मा आयुर्वेद कॉलेज के प्राचार्य डॉ. उमेश शुक्ला ने बताया कि कोरोना से बचाव के लिए केन्द्रीय आयुष मंत्रालय ने एडवाइजरी जारी कर ये रोग प्रतिरोधक दवाएं बाँटने के लिए कहा है। श्वसन तन्त्र और रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने वाली ये औषधियाँ विभिन्न अध्ययन और परीक्षण से गुजर चुकी हैं। लॉकडाउन अवधि में इन आयुर्वेदिक दवाओं, जड़ी-बूटियों के प्रयोग, व्यक्तिगत सुरक्षा और एन्टीबायटिक तुरंत ही ले लेने की प्रवृत्ति पर नियंत्रण से अस्पतालों में मरीजों की संख्या और सामान्य मृत्यु दर घटी है। कई बीमारियाँ आधुनिक दवाइयों के साइड इफेक्ट की भी देन हैं।
संशमनी वटी में मुख्य रूप से गिलोय होती है जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के साथ बुखार, सर्दी-जुकाम में उपयोगी है। त्रिकटु चूर्ण में सोंठ, पीपली और कालीमिर्च शामिल है जिसका काढ़ा सर्दी-जुकाम में काफी असरदार है। अणुतेल संक्रमण की रोकथाम में बहुत कारगर सिद्ध हुआ है। इसके निर्माण में तिल तेल, नागरमोथा, वायविडंग, कटकारी, इलायची, खस, मुलैठी, दारूहल्दी, तेजपत्ता, देवदारू, दालचीनी, शतावर, जीवन्ती आदि का उपयोग किया जाता है। अणुतेल साइनस, नाक बहना, एलर्जी, नाक एवं गले के शुष्कपन (ड्रायनेस) की रोकथाम करता है।

--------------------/2/------------------------

नेकी: मैरिज एनिवर्सरी पर दंपत्ति ने पेंशन की राशि दान की
शिवपुरी। कोरोना वायरस महामारी के चलते जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए कई नागरिक आर्थिक सहायता दे रहे हैं। बुधवार को ऐसे ही एक दंपत्ति कलेक्टोरेट पहुंचे। जिन्होंने अपनी शादी की सालगिरह पर पेंशन की राशि दान में दी है। 
शिवपुरी शहर के निवासी विपिन शर्मा और उनकी पत्नी श्रीमती स्नेहलता शर्मा ने पेंशन के कुल 24 हजार 680 रुपए पीएम केयर फंड में जमा कराए हैं ताकि इस कोरोना वायरस से बचाव के लिए किए जा रहे प्रयासों में वह भी अपना योगदान दे सकें और जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए भागीदार बन सकें। उन्होंने कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी को यह चैक सौंपा। इस दौरान पुलिस अधीक्षक राजेश सिंह चंदेल और अपर कलेक्टर आरएस बालोदिया भी मौजूद थे।

---------------------/3/-----------------------

जिले में प्याज का क्रय-विक्रय का कार्य तहसीलवार किया जाएगा
शिवपुरी। नवीन कृषि उपज मण्डी पिपरसमां में प्याज, लहसुन का क्रय-विक्रय का कार्य प्रारंभ किया जाना है। प्याज का क्रय-विक्रय का कार्य तहसीलवार किया जाएगा। जिसके तहत संपूर्ण शिवपुरी तहसील क्षेत्र के किसानों की प्याज 30 अप्रैल, 04 मई, 08, 14, 19, 26 एवं 30 मई को क्रय-विक्रय की जाएगी। कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी द्वारा जारी निर्देश के तहत कोविड-19 (कोराना वायरस) संक्रमण अवधि में प्याज लहसुन विक्रय कार्य में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाना अनिवार्य होगा। इस हेतु अंकित तिथि में जिन तहसीलों की प्याज लहसुन विक्रय के लिए आएगी। उस ग्राम के पटवारी एवं रोजगार सहायक, सचिव एवं जनपद पंचायत की जिम्मेदारी होगी कि वे डोंढी पिटवाकर ग्राम के कृषकों को सूचना देंगे। इसी प्रकार कोलारस तहसील क्षेत्र के किसानों की प्याज 01 मई, 05, 11, 15, 20 एवं 27 मई को, पोहरी एवं बैराड़ तहसील क्षेत्र के किसानों की प्याज 02 मई, 06, 12, 16, 21 एवं 28 मई तथा शेष संपूर्ण तहसील क्षेत्रों के किसानों की प्याज 07 मई, 13, 18, 22 एवं 29 मई को क्रय-विक्रय की जाएगी।

---------------------/4/-----------------------

कृषि कार्य के लिए सीमावर्ती जिलों में जाने हेतु कृषकों को मिलेंगे पास
शिवपुरी। अपर जिला मजिस्ट्रेट आर.एस.बालोदिया ने सभी अनुविभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए है कि शिवपुरी जिले के ऐसे समस्त कृषक जिनकी कृषि भूमि शिवपुरी जिला तथा सीमावर्ती जिले में हैं। उन्हें कृषि कार्य हेतु सीमावर्ती जिलों में जाने के लिए पास जारी करना सुनिश्चित करें। जिससे उन्हें दूसरे जिले की सीमा में प्रवेश करने पर किसी भी प्रकार की कठिनाई का सामना न करना पड़े। शिवपुरी जिले के ऐसे समस्त कृषक जिनकी कृषि भूमि जिला शिवपुरी तथा सीमावर्ती जिले में हैं। उन्हें फसल काटने आदि कृषि कार्यों के लिए सीमावर्ती जिले की सीमा में प्रवेश करने पर सीमावर्ती जिले की सीमा पर बने नाकों पर पुलिस द्वारा रोका जा रहा है। कारोना वायरस के संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए समस्त जिलों में धारा 144 क्रियाशील है तथा समस्त जिलों में लाॅकडाउन जारी है। इस हेतु एक जिले से दूसरे जिले में जाना प्रतिबंधित है। ऐसे में किसानों की खेती प्रभावित ना हो इसलिए उन्हें पास जारी किए जाएंगे।

---------------------/5/-----------------------

मजदूरों को उनके गंतव्य स्थान तक पहुंचाने हेतु नोडल अधिकारी नियुक्त
शिवपुरी। कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी ने राज्य के बाहर एवं अन्य जिलों से आने वाले मजदूरों को उनके जिले में पहुंचाने के निर्देश दिए हैं। इस व्यवस्था के लिए जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एचपी वर्मा को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। इनके सहयोग हेतु अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी सुबोध दीक्षित, जिला कार्यक्रम अधिकारी देवेंद्र सुंद्रियाल रहेंगे। अनुविभाग स्तर पर इस कार्य के लिए समस्त जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एवं सभी जनपद के सहायक यंत्री (मनरेगा) को नियुक्त किया गया है। संबंधित अधिकारी अपने-अपने अनुभाग के अनुविभागीय अधिकारी के संपर्क में रहते हुए जिले की सीमा पर बनाए गए नाकों पर अन्य राज्यों तथा अन्य जिलों से आए हुए मजदूरों को उनके गन्तव्य तक पहुंचाने के लिए परिवहन व्यवस्था, भोजन व्यवस्था तथा मेडिकल टीम द्वारा उनके स्क्रीनिंग टेस्ट करवाने के बाद संबंधित गन्तव्य स्थान तक पहुंचाने का कार्य करेंगे। उक्त अधिकारी जिला परिवहन अधिकारी तथा जिला नोडल अधिकारी से संपर्क करते हुए उक्त कार्य को सुचारू रूप से क्रियान्वित करेंगे। 
राज्य के बाहर तथा राज्य के भीतर से जो मजदूर जिले में आ रहे हैं। इस संबंध में मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत शिवपुरी सीमावर्ती जिलों से तथा अन्य राज्यों के सीमावर्ती जिलों से प्रतिदिन संपर्क करते हुए मजदूरों के आने की जिम्मेदारी, परिवहन व्यवस्था तथा मुख्यमंत्री प्रवासी मजदूर योजना के तहत जांच उपरांत सहायता राशि उपलब्ध करायेंगे।

---------------------/6/-----------------------

ग्रीन श्रेणी के सभी जिलों में प्रारंभ कराये जायेंगे कार्य
शिवपुरी। प्रदेश के समस्त ग्रीन श्रेणी के जिलों में यथाशीघ्र कार्य प्रारंभ करवा कर कार्यों को पूर्ण कराया जाने के साथ ही मजदूरों को आवश्यक काम की उपलब्धता भी सुनिश्चित की जायेगी। 
प्रमुख सचिव नगरीय विकास एवं आवास संजय दुबे ने सभी कार्यक्रम अधिकारियों को यह निर्देश जारी किये हैं। निर्देशों में कहा गया है कि ग्रीन श्रेणी के जिलों के अलावा आरेंज श्रेणी के जिलों में एवं जहाँ कंटनेमेंट क्षेत्र नहीं हैं, वहाँ पर भी सोशल डिस्टेंसिंग और अन्य सावधानी रखते हुए कार्य प्रारंभ करवाए जायें।

--------------------/7/------------------------

ट्रांसपोर्टर्स के साथ कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक ने बैठक कर दिए निर्देश, ट्रकों में किसी बाहरी व्यक्ति को बैठाकर न लाएं
शिवपुरी। अभी कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए लॉक डाउन किया गया है। बाहर से आने वाले मजदूरों की स्क्रीनिंग की जा रही है लेकिन यह शिकायत भी सामने आ रहीं हैं कि ट्रकों में बैठकर कुछ लोग बिना सूचना के जिले में आ रहे हैं। इस प्रकार की लापरवाही बर्दास्त नहीं की जाएगी, इसलिए यह सुनिश्चित करें कि ट्रकों में कोई व्यक्ति बैठकर न आये और वाहन चालकों को भी इस संबंध में निर्देशित करें। अन्यथा संबंधित के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। यह निर्देश कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी ने ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के साथ आयोजित बैठक में दिए। उन्होंने कहा है कि आवश्यक वस्तुओं का परिवहन जरूरी है इसलिए सभी ऐसी व्यवस्था बनाएं कि परिवहन सुचारू रूप से चलता रहे और संक्रमण के खतरे से भी बचा जा सके।
बुधवार को कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक ने ट्रांसपोर्टर्स के साथ बैठक रखी। इस दौरान अपर कलेक्टर आर एस बालोदिया, जिला परिवहन अधिकारी श्रीमती मधु सिंह सहित लोकल ट्रक यूनियन अध्यक्ष अब्दुल रफीक, शिवपुरी आल इंडिया ट्रांसपोर्ट यूनियन के अध्यक्ष सूबेदार सिंह, उपाध्यक्ष और सचिव हृदेश सचदेव उपस्थित थे।
कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी ने बैठक में कहा कि अभी प्रधानमंत्री आवास, ग्रामीण क्षेत्रों में मनरेगा कार्य प्रारंभ होने जा रहे हैं। इसलिए निर्माण सामग्री का परिवहन जरूरी है। अभी राजस्थान, गुजरात और अन्य राज्यों से भी मज़दूर जिले में आ रहे हैं। लेकिन यह ध्यान रखें कि अनाधिकृत तरीके से कोई मज़दूर न आये। कोई भी व्यक्ति बिना सूचना के सामान के साथ ट्रकों में बैठकर ना आए। यह समस्या उत्पन्न कर सकता है। इसके बारे में वाहन चालकों को सख्ती से पालन करने के लिए बताएं।
 बैठक में कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक ने कहा कि इंदौर, मुंबई से आने वाले वाहन चालकों की सूची जिला प्रशासन को उपलब्ध कराएं ताकि आवश्यक होने पर मेडिकल टीम द्वारा वाहन चालकों का चेकअप कराया जा सके।