दिग्विजय को याद आई नैतिकता बोले- सिंधिया को तो देखिए, उनसे जा मिले जिनकी आलोचना करते थे... - TIMESNEWS

Breaking

TIMESNEWS

सच्चाई की कलम से

Thursday, March 19, 2020

दिग्विजय को याद आई नैतिकता बोले- सिंधिया को तो देखिए, उनसे जा मिले जिनकी आलोचना करते थे...

भोपाल. कांग्रेस के बागी विधायकों से मिलने बेंगलुरू गए पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने कहा, हमने कभी नहीं सोचा था कि ज्योतिरादित्य सिंधिया हमें दग़ा देंगे और बीजेपी (bjp) में चले जाएंगे. उस बीजेपी में जिसकी वो आलोचना करते नहीं थकते थे. ये सब भी तब जबकि कांग्रेस में लगातार उन्हें तवज्जो और पद मिलते रहे.
बेंगलुरू में बुधवार को हुए सियासी ड्रामे के बाद दिग्विजय सिंह ने ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी में शामिल होने पर भी हैरानी जतायी. उन्होंने कहा ज्योतिरादित्य सिंधिया को कांग्रेस में लगातार महत्व दिया गया और हमेशा पदों से नवाज़ा गया. वो पार्टी में लगातार महत्वपूर्ण पदों पर रहे. उनका कांग्रेस में सफल राजनीतिक करियर था.
हमने कभी नहीं सोचा था:-
दिग्विजय सिंह ने कहा- हमने कभी नहीं सोचा था कि सिंधिया हमें dtich करेंगे और उस पार्टी में शामिल होंगे जिसने उन्हें हराया था. दिग्विजय सिंह ने सीधा हमला करते हुए कहा सिंधिया की नैतिकता को देखें, उन्हें उन लोगों में शामिल होना पड़ा, जिनकी वो हमेशा तीखी आलोचना करते थे.
सुबह हुआ ड्रामा:-
कांग्रेस (Congress) के बागी विधायकों से मिलने के लिए वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह बुधवार को बेंगलुरू आए. उन्होंने बेंगलुरू स्थित रमाडा होटल में रुके सभी विधायकों से मिलने की कोशिश की, लेकिन पुलिस ने उन्हें बाहर ही रोक लिया था. इसके बाद वह पार्टी के अन्य नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ धरने पर बैठ गए थे. ऐसे में पुलिस ने सुरक्षा के लिहाज से उन्हें हिरासत में ले लिया.हालांकि बाद में उन्हें छोड़ दिया गया. उनके साथ कई मंत्री और विधायक भी थे. इससे पहले कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता और मध्‍य प्रदेश के मुख्‍यमंत्री ने कहा था कि उन्‍होंने खुद बेंगलुरू में ठहरे पांच विधायकों से बात की है. उन्‍होंने दावा किया था कि सभी विधायकों के मोबाइल फोन छीन लिए गए हैं और उनपर चौबीसों घंटे नजर रखी जा रही है.
राज्यसभा चुनाव में उम्मीदवार:-
दिग्विजय सिंह ने मीडिया से कहा, 'मैं मध्य प्रदेश से राज्यसभा का उम्मीदवार हूं, 26 मार्च को मतदान होना है. मेरे 22 विधायक यहां रुके हुए हैं. वह लोग मुझसे बात करना चाहते हैं. लेकिन उनके फोन छीन लिए गए हैं. पुलिस वाले उनसे बात भी नहीं करने दे रहे हैं.कहते हैं कि इनकी सुरक्षा को खतरा है.' उन्होंने कहा मैंने व्यक्तिगत तौर पर 5 विधायकों से बात की है.