अवैध नाके लगा रेत ठेकेदार के गुंडे कर रहे हथियारों की दम पर पीले टोकन से वसूली, शासन को लाखों के राजस्व का चूना - TIMESNEWS

Breaking

TIMESNEWS

सच्चाई की कलम से

सिंधिया गद्दार मेरे आदर्श अब नही- मानसिंह फौजी

विज्ञापन

loading...

Tuesday, March 10, 2020

अवैध नाके लगा रेत ठेकेदार के गुंडे कर रहे हथियारों की दम पर पीले टोकन से वसूली, शासन को लाखों के राजस्व का चूना

करैरा (शिवपुरी)। जिले के करैरा अनुविभाग की बहुचर्चित कल्याणपुर रेत खदान चालू होते ही पूरा जिला थर्रा गया है, क्योंकि गुंडाराज कायम कर ठेकेदार ने हाइवे समेत कई स्थानों पर अपने अघोषित नाके लगा दिए है। जिनपर इनके हथियारबंद गुंडे बैठे है और अवैध वसूली करने में जुटे है। इतना ही नही कई प्राइवेट वाहनों में हथियारों से लैस इनके गुंडे रास्ते मे डंफरों व ट्रेक्टरों को रोक कर रॉयल्टी के नाम पर एक पीला टोकन देकर अवैध वसूली कर रहे है। यदि कोई इनको टोकन राशि नही देता है तो उसके साथ मारपीट तक कर दी जाती है। आलम यह है कि मानो ठेकेदार पूरे जिले में समांतर प्रशासन चला रहा हो ताज्जुब तो तब हो रहा है कि इतना बड़ा अवैध कारोबार होने के बाबजूद प्रशासन क्यों मौन धारण किये है। उक्त बात प्रशासन की कार्यशैली पर सवालिया निशान बनी हुई है।
राजस्व की चोरी करने रॉयल्टी की जगह पीला टोकन देते है:-
ठेकेदार के लोग रास्ते से निकलने वाले डम्फर ट्रेक्टरों को पीले रंग का टोकन देते है और वसूली करते है नियमों के आधार पर भी देखा जाए तो कम से कम रॉयल्टी तो देना चाहिये तांकि शासन को भी राजस्व का लाभ मिल सके लेकिन यह लोग कूट रचित दस्तावेज यानी एक तरह से फर्जी रॉयल्टी से वसूली कर प्रतिदिन लाखों के राजस्व का चूना मध्यप्रदेश शासन को लगा रहे है। 
होनी चाहिये धारा 420 की कार्रवाई:-
टोकन पर लिखे अनुसार तो लगता है वह फर्जी रॉयल्टी का प्रारूप है। इनके द्वारा रेत भराई का स्थान बाकायदा कल्याणपुर खदान लिखा गया है। समय भी दर्ज किया गया है। जाने का स्थान एवं मात्रा घनमीटर में लिखी है। इस टोकन पर लिखी भाषा को देख लगता है मानो ठेकेदार ने सरकार के खजाने को चपत लगाने के लिये फर्जी रॉयल्टी टोकन के नाम से जारी की गई है उक्त टोकन कूटरचित दस्तावेज तैयार करने की श्रेणी में आता है और नियमानुसार धारा 420 का अपराध बनता है। लेकिन मुश्किल है शासन प्रशासन इसपर कोई कार्रवाई करे।
यहां लगे है अवैध नाके:-
करैरा क्षेत्र में उक्त अवैध वसूली नाके कई स्थानों पर बनाये गए है जिसके लिये बाकायदा किराये पर भवन लिए गए है। वैसे तो स्टेट माइनिंग कारपोरेशन भी नाकों की अनुमति भविष्य में देने की बात कह रही है पर नियमानुसार सीमित नाके लगाए जाएंगे एवं उनपर रॉयल्टी कटेगी टोकन नही फिलहाल तो अवैध वसूली के लिए अवैध नाके मछावली रोड़ पर नवीन कोर्ट भवन के पास, दिनारा में पिछोर तिराहे व राष्ट्रीय राजमार्ग पे झांसी रोड़ पर, राजमार्ग स्थित सुरवाया क्षेत्र के करई पर एक बन्द होटल पर, नरवर रोड़ पर, भितरवार रोड़ पर इतने नाके तो पुलिस के भी नही होंगे जितने इन्होंने लगाए है।

पुलिस का स्टॉपर लगा करते है वसूली:-
बेखोफ ठेकेदार सुरवाया के पास करई के एक बन्द पड़े होटल में अपने आदमी बिठाकर अवैध टोकन वसूली करवा रहे है जिसके लिए पुलिस विभाग को आवंटित स्टॉपर जो तस्वीर में लाल घेरे में दिख रहा है हाइवे पर लगाया गया है। और गाड़ियों को यहां रोक जाता है तथा पीले टोकन से वसूली की जाती है जो कोई इनकार करता है तो उनकी मारपीट की जाती है अभी हाल में ही 2-3 दिन पूर्व भी एक चालक की मारपीट की गई थी। उक्त समाचार का प्रकाशन भी समाचार पत्रों में हुआ था।

Add-2

विज्ञापन

loading...