भांग का ठेका सिर्फ नाम का ठेका, यहां ठेके पर होता है गांजे का अवैध व्यापार - TIMESNEWS

Breaking

TIMESNEWS

सच्चाई की कलम से

Monday, February 17, 2020

भांग का ठेका सिर्फ नाम का ठेका, यहां ठेके पर होता है गांजे का अवैध व्यापार

शिवपुरी में गांजे का काला व्यापार सरकारी भांग ठेके के नाम से भरपूर फलफूल रहा है बड़ी ही आसानी से उपलब्ध होने के कारण आज की युवा पीढ़ी गांजे के नशे की आदि होती जा रही है प्रशासन व पुलिस के चंद अधिकारियों की मिली भगत से भांग ठेकेदार चंद पैसों के फायदे के लिए आज की युवा पीढ़ी को नशे की इस गहरी खाई में झोंककर उनके जीवन को बरबाद करने में लगे हुए है।
शिवपुरी नगर में इस समय तीन भांग के ठेके संचालित हो रहे है:-
1 - जिसमें एक शहर के हृदय स्थल माधव चौक पर मौजूद है इस ठेके से चंद कदम दूर शिवपुरी नगर का सबसे बड़ा सहायता केंद्र बना हुआ है जबकि इस सहायता केंद्र पर एक दिन भी ऐसा नहीं जाता कि यहां पुलिस का बड़ा अधिकारी न आता हो मगर फिर भी यह भांग ठेका गांजे से लैस रहता है और यहां धड़ल्ले से गांजे की खेप को ठिकाने लगाते है।
2 - दूसरा भांग ठेका भी शिवपुरी के बस स्टेंड पर इन ठेकेदारों द्वारा स्थापित किया है शिवपुरी बस स्टैंड पर भी आम जनता से लेकर हजारों यात्री प्रतिदिन सफर करते है और उन सभी को बड़े ही आसानी से धुंए वाला जहर मुहैया कराया जाता है यानी कि इस भांग के ठेके पर भी गांजे की बड़ी खेप को ठिकाने लगा दिया जाता है। इस भांग के ठेके पर ठेकेदार को बस स्टैंड का बड़ा अच्छा फायदा मिला है यहां से आस-पास के ग्राम व तहसीलों पर गांजे की खेप को बड़े ही आराम से लाया व पहुँचाया जाता है साथ ही अपनी दूसरी ठेके की दुकान पर पहुँचा दिया जाता है।
3 - शिवपुरी शहर में तीसरा भांग का ठेका पुरानी शिवपुरी में स्थित है पुरानी शिवपुरी में नशे के आदि युवाओं की संख्या बहुत अधिक है इससे पहले पुरानी शिवपुरी में मिलने वाले च   रस के नशे से शिवपुरी में कइयों को जान से हाथ धोना पड़ा है कइयों के घर बर्बाद हुये है तो भला यहां भांग ठेके पर गांजे का व्यापार किस हद तक हो रहा होगा इसका अंदाज सायद आपके द्वारा लगाया जा सकता है जब पुरानी शिवपुरी में आसानी से स्मेक आदि बड़ी ही आसानी से प्राप्त की जा सकती है तो ठेकेदार साहब पर तो भांग का ठेका है बस उसी भांग के ठेके पर गांजे की खेप युवाओं में खपाई जा रही है ।
घातक है परिणाम:-
शिवपुरी का युवा आज चिलम व सिगरेट में गांजा भरकर धड़ल्ले से पीकर नशे का आदी होते जा रहे हैं साथ ही युवा नशे की लत पूरा करने के लिए अपने घरों में चोरी करने से नहीं हिचकते और धीरे धीरे युवा कब क्राइम की दुनिया से जुड़ जाता है उसे पता ही नहीं लगता, और यही युवा व युवा के परिजनों के लिए घातक है।
आखिर किसकी रहमतों से चमन हुये भांग कम गांजे के ठेके:-
शिवपुरी शहर में इन ठेकों के अलावा भी इन ठेकेदारों द्वारा शहर भर में कई जगह गांजे को उपलब्ध कराया जाता है आखिर उक्त भांग के ठेकों पर ठेकेदारों द्वारा किसकी छत्रछाया में गांजा बेंचा जा रहा है एक सवाल यह भी बनता है कि क्या इसमें पुलिस की भी मिलीभगत है, क्या गांजा बिकवाने वाले पुलिस की जेब गर्म करते है।क्या यही कारण है कि पुलिस इस पर शिकंजा नहीं कस रही है जबकि आज का युवा गांजे का आदी होने के कारण दिन प्रतिदिन अपराध की ओर बढ़ रही है।