पब्लिक सर्वेः देश में रहने लायक हैं मध्यप्रदेश के यह दो बड़े शहर, जानिए क्यों है खास - TIMESNEWS

Breaking

TIMESNEWS

सच्चाई की कलम से

सिंधिया गद्दार मेरे आदर्श अब नही- मानसिंह फौजी

विज्ञापन

loading...

Sunday, February 23, 2020

पब्लिक सर्वेः देश में रहने लायक हैं मध्यप्रदेश के यह दो बड़े शहर, जानिए क्यों है खास

भोपाल। मध्यप्रदेश के लोगों के लिए यह अच्छी खबर है कि यहां के दो बड़े शहर रहने लायक हैं। इंदौर और भोपाल दोनों शहरों की आबोहवा, कल्चर, सुकून के कारण साफ-सफाई सभी मिलाकर यह दोनों शहर लोगों को काफी आकर्षित कर रहा है।
देश के कई बड़े शहर भीड़भाड़, पॉल्यूशन और रहने के लिए दूर-दराज कॉलोनियां होने के कारण वे अब रहने लायक नहीं माने जाते हैं। ऐसी स्थिति में मध्यप्रदेश के इंदौर और भोपाल की तरफ लोग काफी आकर्षित हो रहे हैं।
सरल जीवन सूचकांक (Ease of Living Index) के लिए लगातार पब्लिक का फीडबैक लिया जा रहा है। यह फीडबैक 29 फरवरी तक इन शहरों में चलेगा। इन शहरों की जनता अपने-अपने शहरों को फीडबैक देकर नंबर-वन भी बना सकती है। इसे लेकर विभिन्न विभागों से जानकारी अपलोड करवाई जाना है। इसके लिए नगर निगम को नोडल एजेंसी बनाया गया है। इसके लिए इंदौर के नगर निगम कमिश्रन आशीष सिंह ने प्रशासन, स्वास्थ्य, वन, शिक्षा विभाग और अन्य संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की। इसमें सरल जीवन सूचकांक 2019 सर्वेक्षण की जानकारी देते हुए निगमायुक्त ने कहा कि इसमें सभी विभागों से जुड़ी जानकारियां अपलोड की जाना है। देश के रहने योग्य शहरों की रैंकिंग में इंदौर को पहले स्थान पर लाने के लिए सभी का सकारात्मक फीडबैक वेबसाइट और कोड का स्कैन कर दे सकते हैं।
यह है सर्वे का आधार:-
शहरों की रैंकिंग शहर में उपलब्ध मूलभूत सुविधाओं की अधोसरंचना जैसे बिजली, पानी, सड़क, शिक्षा, आवास, स्वास्थ्य सेवा, प्रदूषण की स्थिति, जनमानस की सुरक्षा, लोक परिवहन की स्थिति, वित्तीय सुविधाएं, रोजगार, अपराधों की स्थिति, व्यापार की सरलता आदि के संबंध में निर्धारित मापदंडों के आंकड़ों और आम लोगों की प्रतिक्रिया के आधार पर किया जा रहा है। यह सर्वे एक फरवरी से 29 फरवरी के बीच किया जा रहा है।
2018 में इंदौर 8वें और भोपाल 10वें नंबर पर था
केंद्रीय आवास और शहरी विकास मंत्रालय ने 2018 अगस्त में जो सूची जारी की थी उसमें इंदौर आठवें और भोपाल 10वें नंबर पर आ गया था। देश के चयनित 100 स्मार्ट शहरों और 10 लाख से अधिक आबादी वाले शहरों में 'देश के सबसे अच्छे रहने योग्य शहर' को चुनने के लिए सर्वे किया गया था। इस सर्वे में भी शहर की कुल आबादी के 10 प्रतिशत लोग यानी करीब दो लाख लोगों का फीडबैक मिलना जरूरी है।
और सुधर सकती है रैंकिंग:-
जैसे-जैसे फीडबैक आते जा रहे हैं उसमें इंदौर की रैंकिंग दूसरे नंबर पर पहुंच गई है, वहीं भोपाल 14 नंबर पर आ गया है। कुछ दिन पहले इंदौर चौथे और भोपाल 28वें नंबर पर था। इसके अलावा रहने लायर शहरों में गुजरात का सूरत पहले नंबर पर पहुंच गया है, जबकि अहमदाबाद तीसरे नंबर पर है। दूसरे नंबर के लिए अहमदाबाद और इंदौर में कांटे का मुकाबला चल रहा है। सर्वे में जैसे-जैसे और लोग बढ़ेंगे, इस रैंकिंग में और सुधार हो सकता है।

Add-2

विज्ञापन

loading...