तत्काल मदद कार्यक्रम में कलेक्टर ने किया बुजुर्गों को चरण स्पर्श, शाल, श्रीफल भेंट कर किया सम्मानित बुजुर्ग बोले-जियो - TIMESNEWS

Breaking

TIMESNEWS

सच्चाई की कलम से

सिंधिया गद्दार मेरे आदर्श अब नही- मानसिंह फौजी

विज्ञापन

loading...

Saturday, February 15, 2020

तत्काल मदद कार्यक्रम में कलेक्टर ने किया बुजुर्गों को चरण स्पर्श, शाल, श्रीफल भेंट कर किया सम्मानित बुजुर्ग बोले-जियो

ग्वालियर। बोलिये माताजी बाबूजी आपको क्या परेशानी है? आपको किस तरह की मदद चाहिए। शुक्रवार को ग्वालियर कलेक्टर अनुराग चौधरी का वैलेंटाइन डे पर यह सवाल बुजुर्गों से था। किसी को छड़ी चाहिए थी तो किसी को राशन, किसी की समस्या का पहले ही निदान हो चुका था तो वो धन्यवाद कहने आया था। तत्काल हर समस्या को मौके पर समाधान किया गया और कलेक्टर ने शॉल-कंबल ओढ़ाकर हर बुजुर्ग के पैर छुए। वे बेटे-बहू जो बुजुर्ग से रूठे थे।
कचहरी में समाधान के बाद मिले और उन्होंने कार्यक्रम में अपने बुजुर्ग माता-पिता से आशीर्वाद लिया। यह अवसर था वेलेंटाइन डे पर माता-पिता सम्मान समारोह का जो पहली बार प्रसाशन ने आयोजित किया। बुजुर्गों ने कलेक्टर को आशीर्वाद दिया है जिओ मेरे लाल भी कहा।
जिला प्रशासन ने वैलेंटाइन डे पर समाज में बुजुर्गों के प्रति आदर-सम्मान का संदेश देने के लिए माता-पिता का पूजन और सम्मान समारोह का आयोजन किया। कलेक्ट्रेट में जनसुनवाई में कलेक्टर ने बुजुर्गों की समस्याएं खुद सुनीं और तत्काल मौके पर उपस्थित अधिकारियों से निराकरण दिलाया। राशन कार्ड न बनने, पेंशन रुकने, कान की मशीन, बेटे-बहू द्वारा परेशान करने जैसी समस्याओं का निराकरण किया गया। बुजुर्ग जनसुनवाई में 73 बुजुर्गों को लाभ मिला। वहीं 35 बुजुर्गों का सम्मान किया गया। इस दौरान अपर कलेक्टर अनूप सिंह, किशोर कण्याल, शिवम वर्मा सहित सभी विभागो के अधिकारी उपस्थित थे।
आप मत झुकिए:-
जनसुनवाई हाल में क्लेक्टर अनुराग चौधरी बुजुर्गों को शाल और कंबल देकर पैर छू रहे थे। वहीं कुछ बुजुर्ग भावविभोर होकर कलेक्टर की ओर झुकने लगे तो कलेक्टर ने रोका और कहा कि हम आपका सम्मान कर रहे हैं। आप मत झुकिए मैं आपके पैर छुऊंगा।
बुजुर्ग ने कहा- मेरी शादी कराओ:-
बुजुर्गों के सम्मान के दौरान एक बुजुर्ग ने कहा कि मेरी पत्नी का 15 साल पहले निधन हो चुका है और मैं अकेला हूं। बच्‍चे सेपरेट हो गए हैं। जहां बुजुर्ग ध्यान करने जाते हैं वहां एक बुजुर्ग महिला है जो विधवा हैं और आगे अकेलेपन को खत्म करने साथ जीवन जीना चाहती है। हम दोनों सहमत हैं तो हमारा विवाह कराया जाए। कलेक्टर ने शुभकामनाएं दी है पूरी मदद करने का भरोसा दिलाया।

Add-2

विज्ञापन

loading...